बदमाशों को मार गिराएंगे लेकिन चूहों से कैसे निपटें

2019-05-21T06:00:46+05:30

मुंडेरा मंडी के स्ट्रांग रूम में चूहों की धमाचौकड़ी से अ‌र्द्धसैनिक बल परेशान

अधिकारियों ने बंद कराए होल, ईवीएम को हो सकता है खतरा

PRAYAGRAJ: अ‌र्द्धसैनिक बल तैनात। साथ ही पुलिस और होमगार्ड की पहरेदारी। अंदर और बाहर सीसीटीवी कैमरे की निगहबानी। फिर भी सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। मुंडेरा मंडी में रखी गई ईवीएम के साथ यही समस्या है। मामला स्ट्रांग रूम में चूहों के आतंक से जुड़ा हुआ है। हर बार की तरह इस बार भी चूहों की धमाचौकड़ी सिरदर्द साबित हो रही है। राजनीतिक दलों सहित सुरक्षा बल के जवानों ने भी इसकी शिकायत अधिकारियों से दर्ज कराई है। फिलहाल इन कमरों में चूहों के आने जाने वाले रास्तों को बंद कराया जा रहा है।

हर बार होती है परेशानी

मुंडेरा मंडी के स्ट्रांग रूम में चूहों की चहलकदमी कोई नई बात नही है। हर बार चुनाव के बाद ईवीएम की सुरक्षा में यह चूहे सेंध लगाते हैं। प्लास्टिक के बॉक्स में रखी गई ईवीएम को इनसे खतरा है। यह मशीनों को क्षति पहुंचा सकते हैं। यही कारण है कि इस बार भी सुरक्षा बलों ने अधिकारियों के सामने इन चूहों को लेकर आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि बदमाश और अराजक तत्वों से तो निपटा जा सकता है लेकिन इन चूहों को कैसे भगाया जाए।

क्या चूहों को मारी जाएगी गोली

सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिला प्रशासन ने सुरक्षा बलों को ईवीएम की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी दी है। साफ कहा गया है कि कोई भी बदमाश और अराजक तत्व जबरन ईवीएम की सुरक्षा को ठेस पहुंचाता है तो गोली मार दी जाए। इसको देखते हुए सशस्त्र सेना के जवानों को तैनात किया गया है। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरे भी बड़ी मात्रा में लगाए गए हैं। लेकिन इन चूहों को भी क्या गोली मारी जा सकती है। यह बहुत बड़ा सवाल है। खुद जवानों को समझ नही आ रहा कि इन चूहों को सील कमरों में आने से कैसे रोका जाए।

सब्जियों की चाहत में करते हैं हमला

दरअसल इसमें चूहों का या किसी अन्य का दोष नही है। सब्जी और फल मंडी होने की वजह से मुंडेरा में चूहों की तादाद काफी ज्यादा है। यह 12 महीने इन कमरों में हमला करते हैं। यहां रखी चीजे इन चूहों के प्रकोप से बच नही सकती हैं। फिर वह ईवीएम ही क्यो न हो। कितने भी होल बंद कराए जाएं लेकिन चूहे आसानी से घुस जाते हैं। उनको रोकना प्रशासन और सेना के जवानों के लिए नामुमकिन है। बशर्ते यह चूहे ईवीएम को नुकसान न पहुंचाएं वरना शासन व प्रशासन क लिए यह मामला सिरदर्द बन सकता है।

वर्जन

ईवीएम की सुरक्षा के सभी इंतजाम किए जा रहे हैं। ईवीएम मजबूत प्लास्टिक की बनी है और इनको चूहे नुकसान नही पहुंचा सकते हैं। इन समस्याओं को लेकर प्रशासन पहले से सतर्क हो चुका है।

डॉ। आशीष गोयल, कमिश्नर

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.