रेस 3 की असफलता से रेमो ने सीखे कई सबक

2018-09-21T12:11:32+05:30

कोरियोग्राफरटर्न्डडायरेक्टर रेमो डिसूजा को उनकी पिछली डायरेक्टोरियल फिल्म रेस 3 के लिए काफी क्रिटिसिज्म फेस करना पड़ा था। वो अभी तक चुप थे लेकिन एक रीसेंट इंटरव्यू में उन्होंने खुलकर अपनी बात दुनिया के सामने रखी है

 

features@inext.co.in     KANPUR: सलमान खान स्टारर फिल्म रेस 3 ने भले ही बॉक्स-ऑफिस पर अच्छी कमाई की हो लेकिन ये फिल्म ऑडियंस के गले के नीचे नहीं उतरी और कुछ चीजों को लेकर इसका खूब मजाक उड़ाया गया। फिल्म को डायरेक्ट करने वाले रेमो को लेकर भी कई सवाल खड़े हुए थे। बहरहाल, अब रेमो ने भी अपनी बात कही है। रेमो ने भी एक्सेप्ट किया कि इस फिल्म से उनके क्रिएटिव माइंड को भी खुशी नहीं मिली थी और फिल्म को लेकर हुई जबरदस्त ट्रोलिंग ने उन्हें भी काफी दुखी किया था।  'सीखीं कई चीजें' इस बारे में रेमो ने कहा, 'मैंने इस फिल्म से कई चीजें सीखी हैं। पहली तो ये कि कभी भी किसी आधी-अधूरी स्क्रिप्ट पर काम नहीं करना है। काम करना है तो ऐसी स्क्रिप्ट पर जो पूरी तरह से मेच्योर हो और दमदार हो। दूसरी चीज जो मैंने सीखी वो ये कि जब भी क्रिएटिव डिफरेंसेज आएं तो अपनी बात को मजबूती के साथ सामने कैसे रखना है। कोई भी व्यक्ति एक लेवल तक ही आर्ग्यूमेंट्स कर सकता है। लेकिन उसके बाद नहीं। इसलिए जब भी सामने कोई ऐसी सिचुएशन हो कि क्रिएटिविटी को लेकर आर्ग्यूमेंट हो तो मैं सीख गया हूं कि मुझे अपनी बात कैसे कहनी है।'  कहीं जीत तो कहीं हार  बतौर कोरियोग्राफर करियर शुरू करने वाले रेमो ने 2011 में डायरेक्शन की कमान संभाली थी। उन्होंने बॉलीवुड में कुछ बेहतरीन डांस नंबर्स को कोरियोग्राफ किया है जैसे 'बद्तमीज दिल', 'दीवानी-मस्तानी' और 'पिंगा'। उन्होंने एबीसीडी जैसी फिल्म बनाई जो बॉलीवुड में पहली ऐसी फिल्म थी जो पूरी तरह डांस पर बेस्ड थी। इस फिल्म को बॉक्स-ऑफिस पर अच्छी सक्सेस मिली थी। इसके सीक्वेल एबीसीडी-2 को भी अच्छा रिस्पॉन्स मिला था। हालांकि, अ फ्लाइंग जट और रेस-3 में वो मात खा गए।  टूट गया था दिल  रेस 3 के बारे में बात करते हुए रेमो ने कहा, 'इस फिल्म की कमर्शियल सक्सेस को देखते हुए मुझे भी खुश होना चाहिए था। है न? क्योंकि जब मैंने फिल्म साइन की थी तो मुझे पता था कि ये एक कमर्शियल फिल्म है और इसे बनाने का जो मकसद था वो इसकी कमाई से पूरा हो गया था। लेकिन मेरा दिल तब पूरी तरह से टूट गया जब फिल्म को बुरी तरह से ट्रोल किया गया और इंटरनेट पर इसका जबरदस्त मजाक उड़ाया गया।' रेमो ने आगे कहा, 'मैं एक क्रिएटिव पर्सन हूं। इमोशन और सेंसिटिव भी हूं। मैं उन ट्रोल्स को देखकर ये नहीं कह सकता कि मुझे इनसे फर्क नहीं पड़ता। मुझे फर्क पड़ता है, उन ट्रोल्स का मेरे दिल और दिमाग पर बहुत बुरा असर हुआ था।' 

 

 

features@inext.co.in    

KANPUR: सलमान खान स्टारर फिल्म रेस 3 ने भले ही बॉक्स-ऑफिस पर अच्छी कमाई की हो लेकिन ये फिल्म ऑडियंस के गले के नीचे नहीं उतरी और कुछ चीजों को लेकर इसका खूब मजाक उड़ाया गया। फिल्म को डायरेक्ट करने वाले रेमो को लेकर भी कई सवाल खड़े हुए थे। बहरहाल, अब रेमो ने भी अपनी बात कही है। रेमो ने भी एक्सेप्ट किया कि इस फिल्म से उनके क्रिएटिव माइंड को भी खुशी नहीं मिली थी और फिल्म को लेकर हुई जबरदस्त ट्रोलिंग ने उन्हें भी काफी दुखी किया था। 

'सीखीं कई चीजें'

इस बारे में रेमो ने कहा, 'मैंने इस फिल्म से कई चीजें सीखी हैं। पहली तो ये कि कभी भी किसी आधी-अधूरी स्क्रिप्ट पर काम नहीं करना है। काम करना है तो ऐसी स्क्रिप्ट पर जो पूरी तरह से मेच्योर हो और दमदार हो। दूसरी चीज जो मैंने सीखी वो ये कि जब भी क्रिएटिव डिफरेंसेज आएं तो अपनी बात को मजबूती के साथ सामने कैसे रखना है। कोई भी व्यक्ति एक लेवल तक ही आर्ग्यूमेंट्स कर सकता है। लेकिन उसके बाद नहीं। इसलिए जब भी सामने कोई ऐसी सिचुएशन हो कि क्रिएटिविटी को लेकर आर्ग्यूमेंट हो तो मैं सीख गया हूं कि मुझे अपनी बात कैसे कहनी है।' 

कहीं जीत तो कहीं हार 

बतौर कोरियोग्राफर करियर शुरू करने वाले रेमो ने 2011 में डायरेक्शन की कमान संभाली थी। उन्होंने बॉलीवुड में कुछ बेहतरीन डांस नंबर्स को कोरियोग्राफ किया है जैसे 'बद्तमीज दिल', 'दीवानी-मस्तानी' और 'पिंगा'। उन्होंने एबीसीडी जैसी फिल्म बनाई जो बॉलीवुड में पहली ऐसी फिल्म थी जो पूरी तरह डांस पर बेस्ड थी। इस फिल्म को बॉक्स-ऑफिस पर अच्छी सक्सेस मिली थी। इसके सीक्वेल एबीसीडी-2 को भी अच्छा रिस्पॉन्स मिला था। हालांकि, अ फ्लाइंग जट और रेस-3 में वो मात खा गए। 

टूट गया था दिल 

रेस 3 के बारे में बात करते हुए रेमो ने कहा, 'इस फिल्म की कमर्शियल सक्सेस को देखते हुए मुझे भी खुश होना चाहिए था। है न? क्योंकि जब मैंने फिल्म साइन की थी तो मुझे पता था कि ये एक कमर्शियल फिल्म है और इसे बनाने का जो मकसद था वो इसकी कमाई से पूरा हो गया था। लेकिन मेरा दिल तब पूरी तरह से टूट गया जब फिल्म को बुरी तरह से ट्रोल किया गया और इंटरनेट पर इसका जबरदस्त मजाक उड़ाया गया।' रेमो ने आगे कहा, 'मैं एक क्रिएटिव पर्सन हूं। इमोशन और सेंसिटिव भी हूं। मैं उन ट्रोल्स को देखकर ये नहीं कह सकता कि मुझे इनसे फर्क नहीं पड़ता। मुझे फर्क पड़ता है, उन ट्रोल्स का मेरे दिल और दिमाग पर बहुत बुरा असर हुआ था।' 

ये भी पढ़ें: सिख समुदाय की आपत्ति के बाद 'मनमर्जियां' से हटाए गए ये तीन सीन


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.