मेरठ में दंगा फैलाने वाले चिह्नित

2019-04-10T06:01:00+05:30

पोलिंग सेंटर के आसपास भी गश्त करेगी पैरा मिलिट्री और लोकल पुलिस

सभी संवेदनशील परिवारों और व्यक्तियों पर रहेगी पुलिस की नजर

MEERUT। मेरठ में लोकसभा चुनाव के दौरान दंगा फैलाने वालों को चिह्नित कर लिया गया है। इलेक्शन के दौरान पुलिस की नजर इन सभी दंगाइयों पर रहेगी। मेरठ में 131 पोलिंग स्टेशन पर 588 ऐसे वोटर्स चिह्नित किए हैं जो फिजां को बिगाड़ सकते हैं। पूर्व के चुनावों के दौरान हिंसा फैलाने वाले ऐसे 336 वोटर्स के खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी कर चुकी है। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर जीरो टॉलरेंस पर काम करते हुए पुलिस-प्रशासन ने जनपद में ऐसे सभी वोटर्स पर सख्त पहरा रखने का फैसला लिया है जिनसे चुनाव के दौरान दंगा फैलाने की आशंका है।

जातीय हिंसा का निकाला ब्लू प्रिंट

मेरठ पुलिस ने गत वर्षो में चुनाव के अलावा जातीय हिंसा की वारदातों का ब्लू प्रिंट निकाला है। आरक्षण बचाओ आंदोलन में 2 अप्रैल 2017 की हिंसा के आरोपियों को पुलिस ने लोकसभा चुनाव से पहले ट्रेस किया है तो वहीं मिश्रित आबादी के इलाकों में सांप्रदायिक वारदातों के आरोपियों को रडार पर लिया है। इस तरह जनपद में 588 ऐसे लोग चिह्नित किए गए हैं जो लोकसभा चुनाव में वोटर भी हैं और इनपर मतदान प्रक्रिया के दौरान बाधा डालने की आशंका है। इनमें सर्वाधिक 191 मतदाता मेरठ शहर विधानसभा क्षेत्र में हैं। दूसरे नंबर पर हस्तिनापुर विधानसभा है जिसमें 149 ऐसे मतदाता हैं जो मतदान प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं।

मेरठ में

1198-कुल पोलिंग स्टेशन

2740-कुल पोलिंग बूथ

69-ऐसे पोलिंग स्टेशन हैं जिनमें दंगा फैलाने वाले वोटर, परिवार और हाउसहोल्ड आइडेंटीफाई हुए हैं।

131-ऐसे पोलिंग बूथ हैं जिनमें दंगा फैलाने वाले चिह्नित किए गए है।

588-ऐसे लोग चिह्नित किए गए हैं जो फिजां को बिगाड़ सकते है।

318 को किया नजरबंद

पुलिस ने पूर्व में विभिन्न मतदान के दौरान प्रक्रिया को गलत क्रियाकलापों से प्रभावित करने वाले 336 वोटर्स को चिह्नित किया है। इनमें से 318 लोगों को पुलिस ने नजरबंद किया है। जिसमें से 3 को पुलिस ने कस्टडी में लिया है। 10 के खिलाफ अन्य कार्रवाई को किया गया है। इसके अलावा 5 अन्य लोगों के खिलाफ भी पुलिस ने मतदान प्रक्रिया को प्रभावित करने की आशंका में कार्रवाई की है।

मेरठ में लोकसभा चुनाव को लेकर पुलिस ने बड़े स्तर पर जांच-पड़ताल की है और 588 ऐसे लोगों को चिह्नित किया है जो मतदान प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं। इनमें से 336 के खिलाफ कार्रवाई की गई है। मतदान प्रक्रिया को सकुशल संपन्न कराने के लिए पुलिस ने पूर्व में हुई सांप्रदायिक, जातीय और चुनाव के दौरान की वारदातों का भी ब्लू प्रिंट खंगाला है।

नितिन तिवारी, एसएसपी, मेरठ

inextlive from Meerut News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.