कहीं खुद और औरों के लिए खतरा न बन जाए आपका लाडला

2016-07-30T12:03:01+05:30

GORAKHPUR शहर के चौराहों और गलियों में डेली शाम को फर्राटा भरते हुए बाइकर्स निकलते हैं तो मोहल्लों से एक ही आवाज आती है भगवान इन बच्चों को बचाएं और इनके गार्जियन को सद्बुद्धि दें यह सीन शहर के लगभग सभी गलियों और चौराहों दिख जाता है स्थिति यह है कि शहर की अधिकांश गलियों में इन्हीं टीनएजर्स के कारण लोग ब्रेकर्स बनवा लिए हैं कई बार मोहल्लों में लोग किसी के घर जाकर कहते हैं कि देखिए भाई साहब आपका बच्चा शहर में खतरा पैदा कर रहा हैं उसकी वजह से कभी भी एक्सीडेंट हो सकता है यह सच भी है क्योंकि ट्रैफिक पुलिस के रिकॉर्ड पर नजर डालें तो शाम को बाइक चेकिंग में सबसे अधिक टीएनजर्स ही पकड़े जाते हैं आई नेक्स्ट ने ऐसे ही टीएनजर्स बाइकर्स और उनके गार्जियन को जागरूक करने के लिए कैंपेन लाडलों को संभालोÓ शुरू किया है

नहीं दें बच्चों को बाइक
बच्चों को बाइक देना सही नहीं है. यदि बहुत जरूरी हो तो गार्जियन खुद ही बच्चों को अपनी बाइक से पिक करें. इससे परिवार के सदस्यों को तो चिंता नहीं ही रहेगी, साथ ही साथ शहर में भी कई तरह की प्रॉब्लम नहीं होगी.
- अलका शाही, गार्जियन
शहर में जाम के कारणों की गिनती की जाए तो सबसे बड़ा कारण ऐसे ही बाइकर्स होते हैं. गार्जियन को एक बार अपने बच्चों को बाइक देते समय भावनात्मक रूपप से भी जरूर सोचना चाहिए. देना ही है तो अच्छी साइकिल दें जिससे बच्चा सुरक्षित और स्वस्थ रहे और शहर को भी जाम व प्रदूषण से राहत मिल सके.  
- रीमा श्रीवास्तव, गार्जियन
किसी को भी अपने बच्चों को बाइक नहीं देनी चाहिए. टीनएजर्स बच्चों का मन बहुत ही चंचल होता है. वह बाइक पाते ही फर्राटा भरने लगते हैं. जिससे कई बार एक्सीडेंट के कारण बनते हैं. इससे उनका ही नुकसान होता है.
- मुन्नी देवी, गार्जियन
गार्जियन को अपने बच्चों के भविष्य के बारे में अधिक सतर्क रहना चाहिए. किसी भी घर के बच्चे हों वह आधुनिकता की दौड़ को लेकर अपनी मांग तो रखते ही हैं. ऐसे में बच्चों को समझा कर उन्हें बाइक की जगह साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करना चाहिए.
- श्यामा देवी, गार्जियन


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.