जानें सदगुरु और धर्मगुरु में क्या है बड़ा अंतर?

2018-06-27T02:08:20+05:30

सदगुरु अपने पैरों पर खड़ा होता है; उसकी कोई पुरानी प्रतिष्ठा नहीं है इसलिए सदगुरु को कठिनाई होती है; उसे सब काम फिर से नए सिरे से जमाना है ।

प्रश्न: कबीर का धर्म-गुरु की तरह व्यापक प्रभाव क्यों नहीं पड़ा?

पहली बात: धर्मगुरु और सदगुरु में फर्क कर लेना । धर्मगुरु तो अक्सर थोथा होता है, जैसे पोप धर्मगुरु हैं । अगर पोप को धर्मगुरु कहते हो, तो जीसस को धर्मगुरु मत कहना । वह जीसस का अपमान हो जाएगा । जीसस के लिए सदगुरु शब्द उपयोग करो । पुरी के शंकराचार्य धर्मगुरु हैं, लेकिन आदि-शंकराचार्य को धर्मगुरु मत कहना; वे सदगुरु हैं । कबीर सदगुरु हैं, धर्मगुरु नहीं । धर्मगुरु पहले से चली आई परंपरा का हिस्सा होता है । सदगुरु एक नई परंपरा का जन्मदाता । धर्मगुरु की पुरानी साख होती है; उसकी दुकान पुरानी है; वह किसी पुरानी दुकान का हकदार है, चाहे उसकी अपनी कोई संपदा न भी हो, लेकिन बाजार में उसकी प्रतिष्ठा है ।

सदगुरु अपने पैरों पर खड़ा होता है; उसकी कोई पुरानी प्रतिष्ठा नहीं है इसलिए सदगुरु को कठिनाई होती है; उसे सब काम फिर से, नए सिरे से जमाना है । तो पहला तो फर्क यह समझ लो कि वे धर्मगुरु नहीं हैं और मजा यह है कि धर्मगुरु के पास धर्म होता ही नहीं; सिर्फ साख होती है । सदगुरु के पास धर्म होता है- साख नहीं होती । धर्मगुरु के पास तो व्यवस्था होती है, जमा हुआ संप्रदाय होता है, अनुयायी होते हैं । सदगुरु के पास कोई नहीं होता- सिर्फ परमात्मा होता है । बस, परमात्मा की संपत्ति से ही उसे काम शुरू करना पड़ता है । एक अनुभव की संपदा होती है । उसे खोजना पड़ता है । उसे शिष्य खोजने पड़ते हैं जो सीखने को तत्पर हों, जो पात्र हों, वे खोजने पड़ते हैं और स्वभावत: यह आसान नहीं है शिष्यों का मिलना, क्योंकि ये शिष्य किसी न किसी संप्रदाय का हिस्सा होते हैं ।

अब तुम यहां मेरे पास इकट्ठे हुए हो । कोई हिंदू है, कोई यहूदी है, कोई मुसलमान है, कोई जैन है, कोई बुद्ध है, कोई सिख है । तुम किसी परंपरा से बंधे हो, किसी परंपरा में पैदा हुए हो । तुम्हें तुम्हारी परंपरा से निकालना अड़चन की बात है । तुम्हारा भी निकलना तुम्हें कठिनाई की बात मालूम होती है क्योंकि हजार न्यस्त स्वार्थ हैं । फिर तुम्हारे जीवन की सीमाएं हैं, अड़चनें-उलझनें हैं । नौकरी खो जाए; संबंध टूट जाएं; अड़चनें पैदा हों । घर में दु:ख-सुख होता है, तो समाज का साथ मिलता है; वह सब मिलना बंद हो जाए । इन सारी अड़चनों के कारण आदमी सदगुरु के साथ नहीं जा पाता । उसे धर्मगुरु के साथ ही खड़ा रहना पड़ता है ।

तो कबीर अपूर्व थे; लेकिन स्वभावत: तुलसीदास के साथ जितने लोग गए, उतने कबीरदास के साथ नहीं गए । तुलसीदास धर्मगुरु हैं; कबीर सदगुरु हैं । दोनों अनूठे हैं । जहां तक काव्य का संबंध है, साहित्य का संबंध है, तुलसीदास भी अनूठे हैं, जैसे कबीरदास अनूठे हैं मगर जहां तक अनुभव की संपदा का संबंध है, तुलसीदास परंपरागत हैं; कबीरदास क्रांतिकारी हैं । स्वभावत: तुलसीदास को ज्यादा प्रेमी मिल जाएंगे इसीलिए रामचरितमानस घर-घर पहुंच गई । कबीरदास के वचन घर-घर नहीं पहुंच सके । इतनों तक भी पहुंच सके-यह भी कम आश्चर्य नहीं है क्योंकि कबीरदास की बात तो बड़ी आग जैसी है । कबीर की चोट बड़ी सीधी है- सिर तोड़ । कबीर को झेलना आसान बात नहीं है । कुछ विरले हिम्मतवर लोग ही झेल पाएंगे । हालांकि कबीर जो बोलते हैं, वही वेद है, वही कुरान है मगर कबीर अपने गवाह खुद हैं, वेद से गवाही नहीं लेते । वह गवाही उधार हो जाएगी, झूठी हो जाएगी ।

अब दूसरी बात समझ लें: अगर संत लीक पर चलता हो, तो उसे ज्यादा शिष्य मिल जाएंगे । अगर संत सब लीक छोड़कर चलता हो, तो स्वभावत: कुछ विरले अभियानी ही उसके साथ हो पाएंगे । उसके साथ जाना खतरे से खाली नहीं है । उसके साथ जाना खतरनाक है । फिर कबीरदास जैसा अक्खड़ संत हुआ ही नहीं; दो टूक बात कह देनेवाला; एक वोट कबीर की झेल लोगे, तो जिंदगी भर याद रखोगे; भूले नहीं भूलेगा । सदगुरु और क्रांतिवादी! और फिर यह भी अड़चन थी । जैसा तुम पूछते हो कि जिनका एक पांव इस्लाम में और एक पांव हिंदू धर्म में था । तो ऐसा लगता है कि दो-दो धर्मों पर जिनका अड्डा था । तो दोनों धर्मों से उन्हें अनुयायी मिल जाने चाहिए थे । मिले भी; मगर बहुत थोड़े ।

कारण? हिंदुओं ने कहा कि यह मुसलमान है और मुसलमानों ने कहा कि यह हिंदू है । लोग अपने अंधकार को बचाने की सब तरफ से कोशिश करते हैं- जो भी बहाना मिल जाए इसलिए तुम पूछते ठीक हो कि कबीर का जितना प्रभाव होना चाहिए था, उतना नहीं हुआ । लेकिन किसका कब हुआ? अगर उतना प्रभाव हो जाता, तो यह पृथ्वी और ही होती- स्वर्ग होती ।

-ओशो

परिपक्वता को प्राप्त करना ही दिव्यता है

भगवान की भक्ति में मौजूद शक्ति को पहचानिए, बाकी शक्तियां लगेंगी बेकार!


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.