इसरो आज लाॅन्च करेगा जीसैट7ए देश में बेहतर होंगी संचार सेवाएं

2018-12-19T09:57:46+05:30

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो आज देश का 35वां संचार सेटेलाइट जीसैट7ए लांच करने वाला है। वहीं हाल ही में दिसंबर के पहले सप्ताह में इसराे ने जीसैट11 सफलतापूर्वक लॉन्च किया था। इन उपग्रहों के लाॅन्च होने से देश में संचार सेवाआें की स्पीड बढ़ेगी।

कानपुर। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) आज देश का 35वां संचार सेटेलाइट जीसैट-7ए लांच करने जा रहा है। इसरो के मुताबिक इसकी लॉन्चिंग आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर में होगी। इसके लिए आज शाम चार बजकर 10 मिनट का समय तय हुआ है। श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर में जीसैट-7ए को जीएसएलवी एफ-11  जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर आर्बिट में छोड़ेगा। खबरों की मानें तो जीसैट-7ए  का वजन 2,250 किलोग्राम वजन है। जीसैट-7ए का जीवन 8 साल बतार्इ जा रही है। इस नए सेटेलाइट से 100 गीगाबाइट इंटरनेट स्पीड होगी। इससे भारत में केयू-बैंड के यूजर्स को संचार क्षमताएं मिलेगी।  

जीसैट-11 हुआ था लाॅन्च

बता दें कि बीते 5 दिसंबर को इसरो ने भारत के सबसे भारी उपग्रह जीसैट-11 को सुबह यूरोपीय स्पेस एजेंसी के प्रक्षेपण केंद्र फ्रेंच गयाना से अंतरिक्ष के लिए रवाना किया गया था। एरियन-5 रॉकेट ने बेहद सुगमता से जीसैट-11 को उसकी कक्षा में स्थापित किया था। जीसैट-11 भारत की सबसे बेहरीन अंतरिक्ष संपत्ति में है। यह भारत द्वारा निर्मित अब तक का सबसे भारी, बड़ा और शक्तिशाली उपग्रह है। इसरो का कहना था कि हर सेकंड 100 गीगाबाइट से ऊपर की ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी देने में सक्षम होगा। इसके साथ ही हाई क्वालिटी टेलीकॉम और डीटीएच सेवाओं में भी यह उपग्रह एक अहम भूमिका निभाएगा। इससे देश में इंटरनेट स्पीड पहले से काफी बेहतर हो जाएगी।

ISRO ने देश का सबसे वजनी सेटेलाइट जीसैट-11 भेजा अंतरिक्ष, इंटरनेट की बढ़ेगी रफ्तार

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.