स्कूल वैन ने मासूम को रौंदा ड्राइवर स्कूली बच्चे और वैन छोड़ फरार

2019-04-12T06:00:27+05:30

- विभूतिखंड का मामला, टक्कर लगने से दो साल के बच्चे की मौत

- असम निवासी दंपत्ति करते थे कूड़ा कलेक्शन, इकलौता था बेटा

LUCKNOW : विकासनगर में तेज रफ्तार एसयूवी से दो साल की मासूम बच्ची के खून के धब्बे अभी साफ भी नहीं हुए थे कि विभूतिखंड में एक स्कूली वैन ने ढाई साल के बच्चे को रौंद दिया। बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के समय स्कूल वैन में सेंट फ्रांसिस के बच्चे थे। मासूम की मौके पर मौत होने पर वैन ड्राइवर गाड़ी में बच्चों को अकेला छोड़ कर फरार हो गया। स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस ने वैन सवार बच्चों को स्कूल पहुंचाया और मासूम के शव को कब्जे में लिया। मासूम अपने माता पिता की इकलौती संतान थी।

कूड़ा कलेक्शन कर रहा था दंपत्ति

मूलरूप से असम निवासी लाल चंद्र अली और उसकी पत्नी जूमिला गोमतीनगर स्थित मकदूमपुर एरिया में झोपड़ी डालकर रहते हैं। दोनों विभूतिखंड में ठेके पर कूड़ा कलेक्शन का काम करते हैं। उनकी इकलौती संतान ढाई साल का बेटा नयन अली था। रोज की तरह गुरुवार को लाल चंद्र पत्नी के साथ विभूतिखंड स्थित कठौता झील के पास घरों से कूड़ा कलेक्शन कर रहे थे। बेटे नयन को अपने ठेले के हैंडिल पर बैठा दिया था।

तेज रफ्तार वैन ने मारी टक्कर

गुरुवार सुबह करीब 7 बजे स्कूल वैन यूपी 32 बीजेड 4922 स्कूली बच्चों को लेकर जा रही थी। वैन में सेंट फ्रांसिस स्कूल का नाम लिखा था और उसमें इसी स्कूल के बच्चे भी सवार थे। कठौता झील के पास तेज रफ्तार वैन का नियंत्रण बिगड़ गया। इस बीच रोड किनारे खड़े कूड़े के ठेले को वैन ड्राइवर ने टक्कर मार दी। जोरदार टक्कर से ठेले के हैंडिल पर बैठा ढाई साल का नयन उछल कर जमीन पर गिरा। इससे उसका सिर जमीन पर टकरा गया। हादसे में उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

स्कूली बच्चे छोड़ ड्राइवर फरार

हादसे में मासूम नयन की मौत होने पर स्कूल वैन का ड्राइवर गाड़ी में सवार बच्चों को छोड़ कर मौके से फरार हो गया। हादसा जिस जगह पर हुआ ठीक उसके सामने एक जज का प्राइवेट आवास है। आवास के बाहर सिक्योरिटी गार्ड खड़े थे। उन लोगों ने दौड़कर न केवल मासूम नयन को टक्कर मारकर भागने वाले ड्राइवर को पकड़ने का प्रयास किया बल्कि स्कूल वैन में सवार बच्चों को भी संभाला। हालांकि वैन ड्राइवर तब तक मौके से फरार हो चुका था।

सदमे में दंपत्ति

हादसे के समय लालचंद्र और उसकी पत्नी जूमिला घरों से कूड़ा कलेक्शन कर रहे थे। आंख के सामने इकलौते बेटे की मौत से दोनों सदम में आ गए। सिक्योरिटी गार्ड ने एक्सीडेंट की सूचना विभूतिखंड पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मासूम नयन के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा और स्कूली बच्चों को स्कूल भेजवाया। इंस्पेक्टर विभूतिखंड राजीव द्विवेदी ने बताया कि स्कूल वैन का मालिक इरफान वास्तुखंड में रहता है और हादसे के समय वह कानपुर में था। वैन चिनहट निवास सुरेंद्र चला रहा था। लाल चंद्र अली की तहरीर पर वैन ड्राइवर के खिलाफ केस दर्ज कर गाड़ी जब्त कर ली गई है। ड्राइवर सुरेंद्र की तलाश की जा रही है। उसका मोबाइल फोन स्विच ऑफ है।

inextlive from Lucknow News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.