सूर्यग्रहण 13 तारीख और शुक्रवार यह संयोग कयामत का तो नहीं? जानो पूरा सच

2018-07-12T05:38:57+05:30

र्यग्रहण शुक्रवार व 13 तारीख का साथ होना ही कई लोगों के दिल की धड़कन बढ़ा देने के लिए काफी है। दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में इन्हें अशुभ मानने वालों की कमी नहीं है। इनसे जुड़े मिथकों की लिस्ट लंबी है। ज्यादातर पश्चिमी देशों में 13 का अंक अशुभ माना जाता है। इतना ही नहीं अगर 13 तारीख शुक्रवार को पड़े तो मानो कयामत ही आ जाएगी।

इस साल का दूसरा सूर्यग्रहण 13 तारीख, शुक्रवार को पड़ रहा है। सूर्यग्रहण, शुक्रवार व 13 तारीख का साथ होना ही कई लोगों के दिल की धड़कन बढ़ा देने के लिए काफी है। दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में इन्हें 'अशुभ' मानने वालों की कमी नहीं है। इनसे जुड़े मिथकों की लिस्ट लंबी है। ज्यादातर पश्चिमी देशों में 13 का अंक 'अशुभ' माना जाता है। इतना ही नहीं अगर 13 तारीख शुक्रवार को पड़े तो मानो कयामत ही आ जाएगी। 
इसे डर कह लीजिए या अंधविश्वास कि इन देशों के कई होटलों में 13 नंबर का कमरा ही नहीं होता है। हॉलीवुड की फि‍ल्में भी इस डर से अछूती नहीं हैं। जिसने बार-बार इसे परदे पर दोहराया है। आइए एक नजर डालते हैं सूर्यग्रहण, शुक्रवार 13 तारीख से जुड़े मिथकों व उनकी सच्चाई व हॉलीवुाड की उन हॉरर फि‍ल्मों पर जिन्होंने इस डर को परदे पर भुनाया है। 
सूर्यग्रहण से जुड़े मिथक 
आज भी लोगों को सूर्यग्रहण से डर लगता है। कई लोग सूर्यग्रहण को 'अशुभ' घटनाओं के संकेत के तौर पर देखते हैं। 
-मान्यता है कि सूर्यग्रहण गर्भवती महिलाओं व उनके अजन्मे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं व छोटे बच्चों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।  -यह भी मान्यता है कि इस दौरान गर्भवती महिलाओं को चाकू, कैंची आदि का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से गर्भ में पल रहे बच्चे के शरीर पर कटे के निशान हो जाते हैं।  -ग्रहण के दौरान खाना पकाने व खाने की मनाही होती है। मान्यता है कि ग्रहण के दौरान व उससे पहले बनाया गया सारा खाना जहर हो जाता है।  -यह भी मान्यता है कि ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलना व सोना नहीं चाहिए।      -मान्यता के अनुसार इस दौरान तुलसी व शमी के पौधों को छूने की भी मनाही होती है। 
शुक्रवार 13 तारीख को लोग इसलिए मानते हैं 'अनलकी'   
-ईसा मसीह के अंतिम रात्रि भोजन में 13 लोग उपस्थित थे।  -यह भी मान्यता है कि इस दिन 13 तारीख थी।  -यह भी माना जाता है कि इसी तारीख को ईसा मसीह को सलीब पर चढ़ाया गया।  -बाइबिल में जिन जगहों पर अंक 13 का जिक्र आया है वह सकारात्मक संदर्भों में नहीं है।        -यह भी मान्यता है कि सूली पर चढ़ाए जाने से पहले 13 कदम चलना होता है।  -वेबसाइट मेंटलफ्लॉस के मुताबिक शुक्रवार 13 अक्टूबर, 1307 को ईसा मसीह के पवित्र वस्‍तुओं की रक्षा करने वाले नाइट टेम्पलर्स की गिरफ्तारी व मारने का सिलसिला शुरू हुआ था। 
हॉलीवुड ने बना डाली फि‍ल्मों की सीरिज 
हॉलीवुड ने एक कदम आगे बढ़कर इस विषय पर हॉरर फि‍ल्‍मों की पूरी सीरिज ही बना डाली है जिसे नाम दिया गया Friday the 13th, इस सीरिज में 12 फि‍ल्में हैं। इतना ही नहीं कई अन्य फि‍ल्मों में विपदा या आपदा को 13 के अंक से जोड़ा गया है।     
विज्ञान की कसौटी पर कहीं नहीं ठहरते मिथक 
यह मिथक विज्ञान की कसौटी पर खरे नहीं हैं। दुनिया भर के वैज्ञानिक व खगोलशास्त्री इनका खंडन कर चुके हैं। इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि सूर्यग्रहण का मानव स्वभाव, स्वास्थय या पर्यावरण पर कोई असर होता है। हालांकि वैज्ञानिक इस बात की सलाह जरूर देते हैं कि सूर्यग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। ऐसा करने पर आंखों की रोशनी को नुकसान पहुंच सकता है। वहीं अंक 13 या फि‍र शुक्रवार 13 तारीख को अनलकी मानने का भी कोई वैज्ञानिक कारण नहीं है। 

इस साल का दूसरा सूर्यग्रहण 13 तारीख, शुक्रवार को पड़ रहा है। सूर्यग्रहण, शुक्रवार व 13 तारीख का साथ होना ही कई लोगों के दिल की धड़कन बढ़ा देने के लिए काफी है। दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में इन्हें 'अशुभ' मानने वालों की कमी नहीं है। इनसे जुड़े मिथकों की लिस्ट लंबी है। ज्यादातर पश्चिमी देशों में 13 का अंक 'अशुभ' माना जाता है। इतना ही नहीं अगर 13 तारीख शुक्रवार को पड़े तो मानो कयामत ही आ जाएगी। 

 

इसे डर कह लीजिए या अंधविश्वास कि इन देशों के कई होटलों में 13 नंबर का कमरा ही नहीं होता है। हॉलीवुड की फि‍ल्में भी इस डर से अछूती नहीं हैं। जिसने बार-बार इसे परदे पर दोहराया है। आइए एक नजर डालते हैं सूर्यग्रहण, शुक्रवार 13 तारीख से जुड़े मिथकों व उनकी सच्चाई व हॉलीवुाड की उन हॉरर फि‍ल्मों पर जिन्होंने इस डर को परदे पर भुनाया है। 

 

सूर्यग्रहण से जुड़े मिथक 

आज भी लोगों को सूर्यग्रहण से डर लगता है। कई लोग सूर्यग्रहण को 'अशुभ' घटनाओं के संकेत के तौर पर देखते हैं।  मान्यता है कि सूर्यग्रहण गर्भवती महिलाओं व उनके अजन्मे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं व छोटे बच्चों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।  यह भी मान्यता है कि इस दौरान गर्भवती महिलाओं को चाकू, कैंची आदि का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से गर्भ में पल रहे बच्चे के शरीर पर कटे के निशान हो जाते हैं।  ग्रहण के दौरान खाना पकाने व खाने की मनाही होती है। मान्यता है कि ग्रहण के दौरान व उससे पहले बनाया गया सारा खाना जहर हो जाता है।  यह भी मान्यता है कि ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलना व सोना नहीं चाहिए।      मान्यता के अनुसार इस दौरान तुलसी व शमी के पौधों को छूने की भी मनाही होती है। 

शुक्रवार 13 तारीख को लोग इसलिए मानते हैं 'अनलकी'   

ईसा मसीह के अंतिम रात्रि भोजन में 13 लोग उपस्थित थे।  यह भी मान्यता है कि इस दिन 13 तारीख थी।  यह भी माना जाता है कि इसी तारीख को ईसा मसीह को सलीब पर चढ़ाया गया।  बाइबिल में जिन जगहों पर अंक 13 का जिक्र आया है वह सकारात्मक संदर्भों में नहीं है।        यह भी मान्यता है कि सूली पर चढ़ाए जाने से पहले 13 कदम चलना होता है।  वेबसाइट मेंटलफ्लॉस के मुताबिक शुक्रवार 13 अक्टूबर, 1307 को ईसा मसीह के पवित्र वस्‍तुओं की रक्षा करने वाले नाइट टेम्पलर्स की गिरफ्तारी व मारने का सिलसिला शुरू हुआ था। 

 

हॉलीवुड ने बना डाली फि‍ल्मों की सीरिज 

हॉलीवुड ने एक कदम आगे बढ़कर इस विषय पर हॉरर फि‍ल्‍मों की पूरी सीरिज ही बना डाली है जिसे नाम दिया गया Friday the 13th, इस सीरिज में 12 फि‍ल्में हैं। इतना ही नहीं कई अन्य फि‍ल्मों में विपदा या आपदा को 13 के अंक से जोड़ा गया है।     

विज्ञान की कसौटी पर कहीं नहीं ठहरते मिथक 

यह मिथक विज्ञान की कसौटी पर खरे नहीं हैं। दुनिया भर के वैज्ञानिक व खगोलशास्त्री इनका खंडन कर चुके हैं। इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि सूर्यग्रहण का मानव स्वभाव, स्वास्थय या पर्यावरण पर कोई असर होता है। हालांकि वैज्ञानिक इस बात की सलाह जरूर देते हैं कि सूर्यग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। ऐसा करने पर आंखों की रोशनी को नुकसान पहुंच सकता है। वहीं अंक 13 या फि‍र शुक्रवार 13 तारीख को अनलकी मानने का भी कोई वैज्ञानिक कारण नहीं है। 

ये भी पढ़ें : दुनिया में कौन सा रिश्ता होता है सबसे महत्वपूर्ण? जानें साध्वी भगवती सरस्वती से


ये भी पढ़ें: अगर आप भी सुबह करते हैं प्रार्थना तो जाने लें यह एक जरूरी बात



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.