लोकसभा चुनाव 2019 निर्णायक भूमिका निभाएंगे सर्विस वोटर्स

2019-04-22T01:00:47+05:30

मेरठ में आ रहे रिकार्ड सर्विस वोट, जागरूकता का साफ दिख रहा असर

meerut@inext.co.in

MEERUT : मेरठ-हापुड़ लोकसभा सीट पर इस बार सर्विस वोटर्स और पोस्टल बैलेट निर्णायक भूमिका में होंगे? लोकसभा चुनाव में पहली बार सर्विस वोटर्स के बीच इस कदर उत्साह देखने को मिल रहा है तो वहीं रोजाना बड़ी संख्या में सर्विस वोटर्स के लिफाफा बंद मतपत्र प्राप्त हो रहे हैं। मेरठ के कुल 8500 सर्विस वोटर्स में से शुक्रवार तक 1034 वोटर्स ने अपना वोट बंद लिफाफे में जिला निर्वाचन कार्यालय को भेज दिया।

 

8500 सर्विस वोटर्स

मेरठ-हापुड़ लोकसभा क्षेत्र पर करीब 8500 सर्विस वोटर्स हैं जो देश के विभिन्न हिस्सों में आ‌र्म्स फोर्सेस में तैनात हैं। प्रथम चरण के चुनाव के मद्देनजर 28 मार्च को प्रत्याशियों को चुनार चिह्न आवंटित होने के बाद ही सर्विस वोटर्स को उनके तैनाती स्थल पर पोस्टल बैलेट भेजने का कार्य शुरू कर दिया गया था। लोकसभा चुनाव में पहली बार इलेक्ट्रोनिकली ट्रांसमीटेड पोस्टल बैलेट सिस्टम (ईटीपीबीएस) से पोस्टल बैलेट को ऑनलाइन सर्विस वोटर तक भेजा। इससे न सिर्फ समय से बैलेट पेपर मिल गया बल्कि सर्विस वोटर ने जल्द ही बैलेट पेपर पर अपना वोट कॉस्ट करके वापस भेजना शुरू कर दिया है।

 

ऑनलाइन प्रक्रिया बन रही वरदान

लोकसभा चुनाव में पहली बार ईटीपीबीएस के तहत सर्विस वोटर्स को ऑनलाइन बैलेट पेपर दिया जा रहा है। आयोग के निर्देश पर एक फुलप्रूफ ऑनलाइन सिस्टम डेवलेप किया गया। जिसके तहत मेरठ के मूल निवासी करीब 8500 सर्विस वोटर तक पोस्टल बैलेट ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत भेजा गया। एनआईसी ने सर्विस वोटर के तैनाती स्थल के पते पर ऑनलाइन मतपत्र भेज दिया, जिसे कमांड कार्यालय द्वारा एक डाउनलोड करके सर्विस वोटर को सौंप दिया गया। यहां प्रक्रिया की गोपनीयता को बरकरार रखने के लिए हर सर्विस वोटर के लिए एक क्यूआर कोड भी जेनरेट किया गया। पहली बार प्रक्रिया ऑनलाइन होने का नजीता है कि बड़ी संख्या में सर्विस वोटर अपने वोट को कॉस्ट करा पा रहे हैं नहीं तो पूर्व के चुनावों में मतगणना समाप्त होने के बाद भी सर्विस वोट्स आना जारी रहता था।

 

आंकड़ों पर एक नजर

दिनांक मिले सर्विस वोट

4 अप्रैल 6

5 अप्रैल 17

6 अप्रैल 9

8 अप्रैल 52

9 अप्रैल 29

10 अप्रैल 77

12 अप्रैल 174

15 अप्रैल 507

16 अप्रैल 163

कुल 1034

 

मतदानकर्मियों को भेजे पोस्टल बैलेट

इसके अलावा जिन मतदानकर्मियों को ट्रेनिंग के दौरान इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट (ईडीसी) जारी कर दिया गया था उन्हें पोस्टल बैलेट भेजा गया है। मतदानकर्मी भी इस बार प्रक्रिया में बढ़चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं और अपना वोट कॉस्ट करके पोस्टल बैलेट को डाक द्वारा भेज रहे हैं।

 

एक नजर

विधानसभा पोस्टल बैलेट

सिवालखास 140

सरधना 208

हस्तिनापुर 186

किठौर 202

मेरठ कैंट 613

मेरठ शहर 92

मेरठ दक्षिण 375

कुल 1816

 

फैसिलिटेशन सेंटर पर पड़े वोट

931 मतदानकर्मियों ने मेरठ-हापुड़ लोकसभा के लिए किया वोट।

211 मतदानकर्मियों ने सरधना विधानसभा के लिए किया वोट।

217 मतदानकर्मियों ने हस्तिनापुर विधानसभा के लिए किया वोट।

202 मतदानकर्मियों ने सिवालखास विधानसभा के लिए किया वोट।

 

सर्विस वोटर्स का उत्साह इस बार देखते बन रहा है। अभी तक 1034 सर्विस वोटर्स के लिफाफा बंद पोस्टल बैलेट प्राप्त हो गए हैं। पोस्टल बैलेट मतगणना से पूर्व तक स्वीकार किए जाएंगे।

रवींद्र कुमार, उप नियंत्रक, नागरिक सुरक्षा

 

ट्रेजरी में जमा हो रहे पोस्टल बैलेट

सर्विस वोटर्स और मतदानकर्मियों के पोस्टल बैलेट ट्रेजरी में जमा हो रहे हैं। डाक द्वारा आने वाले इन बैलेट्स को लोकसभावार प्रतिदिन ट्रेजरी में जमा कराया जा रहा है। कड़ी सुरक्षा के बीच पोस्टल बैलेट को मतगणना के दिन 23 मई को परतापुर, कताईमिल स्थित मतगणना केंद्र ले जाया जाएगा।

inextlive from Meerut News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.