सीएम ने सिमलीग्वालदम पुल का किया लोकार्पण

2019-06-15T06:00:57+05:30

- कहा, स्टेट में शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क व पेयजल की योजनाओं पर दिया जा रहा खास ध्यान

>DEHRADUN: सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने फ्राइडे को नौली कर्णप्रयाग में सिमली-ग्वालदम रोड पर बीआरओ द्वारा 4.36 करोड़ की लागत से निर्मित 45 मीटर लंबे मलोट ब्रिज का लोकार्पण किया। वहीं सीएम ने सिमली बाजार से सिमली गांव व देवल से सिदोली गांव मार्ग व आदि निर्माण कार्यो की घोषणा की। इस मौके पर सीएम ने कहा कि सरकार का प्रयास राज्य के सुदूरवर्ती क्षेत्रों तक सुविधाएं उपलब्ध कराना है। खासकर शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क व पेयजल की योजनाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिये योजनाएं बनायी जा रही हैं। पर्वतीय क्षेत्रों में युवा स्वरोजगार से जुडें़गे तो पलायन पर ब्रेक लग पाएगा।

टूरिज्म को इंडस्ट्री का दर्जा

सीएम ने कहा कि टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए इसे इंडस्ट्री का दर्जा दिया गया है। अब प्रदेश में टूरिज्म व्यवसाय के लिए उद्योगों की भांति सुविधाएं मिलेंगी। चिकित्सा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी काफी कार्य किये गये हैं। स्वयं सेवी संस्थाओं के माध्यम से चारधाम मार्ग सहित चारों धामों में चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा रही हैं। सीएम ने कहा कि 10 करोड़ की धनराशि सिमली बेस महिला अस्पताल के लिये स्वीकृत की गई है। अबकी बार राज्य में आने वाले यात्रियों व टूरिस्ट की संख्या में तीन से चार गुना ग्रोथ देखने को मिली है। सड़कों का निर्माण होने के बाद टूरिस्ट व यात्रियों की आमद में खासी बढ़ोत्तरी देखने को मिलेगी। पिरूल से बिजली बनाने के प्रयास शुरू हो गए हैं। चमोली के सोनला में प्रोजेक्ट लगाया गया है, जिससे लोगों को रोजगार ि1मलेगा।

ड्रोन से ब्लड भेजने वाला उत्तराखंड पहला स्टेट

टिहरी में ड्रोन से 38 किमी दूर ब्लड भेजा गया है। उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य है, जहां ड्रोन के जरिये ब्लड भेजा गया है। इस प्रकार की तकनीकों का प्रयोग अन्य जिलों में भी स्वास्थ्य सेवाओं में किया जाएगा। एमएलए कर्णप्रयाग सुरेन्द्र सिंह नेगी ने क्षेत्र की समस्याओं से सीएम को अवगत कराते हुए सीमा सड़क संगठन के जवानों व पुल निर्माण में भागदारी करने वाले सभी को बधाई दी। बीआरओ के एडीजी अनिल कुमार ने कहा कि नौली कर्णप्रयाग में मनोट ब्रिज पुल का निर्माण निर्धारित अवधि से पहले ही पूरा किया गया है। जबकि निर्माण 2020 में पूरा होना था, लेकिन इसको मई 2019 में ही पूरा कर लिया गया है।

inextlive from Dehradun News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.