आगरा कैंट रेलवे स्टेशन से छह बांग्लादेशी गिरफ्तार

2019-05-28T06:01:01+05:30

-आधार कार्ड, सिमकार्ड और चार इलेक्ट्रॉनिक टेस्टर बरामद

-बॉर्डर पर तारों की बाड़ पार कर पाक जाने की फिराक में थे

आगरा। भारत में फर्जी पहचान पत्रों के आधार पर ठहरे छह बांग्लादेशियों को (एंटी टेरेरिस्ट स्क्वाड) एटीएस ने रविवार देर रात आगरा कैंट स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया। इनके तार पाकिस्तान से जुड़े हैं। एक बार बार्डर पार करने की कोशिश भी कर चुके हैं।

एटीएस ने संदिग्ध बांग्लादेशियों के किसी ट्रेन से आगरा कैंट रेलवे स्टेशन आने की सूचना पर रविवार रात को यहां जाल बिछाया। टीम ने देर रात यहां से छह बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार कर लिया। इनसे पूछताछ में कई चौंकाने वाली जानकारियां मिलीं। ये सभी अलग-अलग समय पर अवैध तरीके से बांग्लादेश बार्डर पार कर भारत में आए थे। इसके बाद तमिलनाडु के त्रिपुर में कपड़ा कारखाने में काम करने लगे। इसी दौरान सभी राजस्थान और पंजाब के पाकिस्तान बार्डर तक भी गए। पाकिस्तान जाने को तारों की बाड़ पार करने की भी कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुए।

एटीएस सूत्रों के अनुसार, पूछताछ में इनके पाक सहयोगियों की भी जानकारी मिली है। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक टेस्टर से बॉर्डर के तारों में करंट चेक करने के बाद पाक में प्रवेश करने को कहा था। इनसे बरामद सामान में चार इलेक्ट्रॉनिक टेस्टर, सात मोबाइल, नौ सिमकार्ड, छह आधार कार्ड, 37 हजार रुपये और बांग्लादेश और पाकिस्तान के नंबर लिखी पर्चियां बरामद हुई हैं।

ये हुए गिरफ्तार

बांग्लादेश के मदारीपुर में मंझपुरा निवासी हबीबुर्रहमान, नारायणगंज के रूपगंज में बलियापाड़ा निवासी जाकिर हुसैन, खानासामा के बसनेया निवासी मो। काबिल, सिलेट के उस्मानीपुर निवासी कमालुद्दीन, माइमान सिंह जिला में भालूका पुरुरा निवासी ताइजुल इस्लाम, जोयदीपपुर जिले में बिलासपुर निवासी लिटोन।

आइएमओ से दलाल से करते थे चैटिंग

एटीएस की गिरफ्त में आए बांग्लादेशी आइएमओ एप के माध्यम से बार्डर पार कराने वाले दलाल से जुड़े थे। वे इसी से चैटिंग करके बार्डर पार कराने की बातचीत करते थे। अब दलाल ने ही उन्हें पाकिस्तान जाने की सलाह दी थी। आइएमओ का इस्तेमाल इसलिए करते थे, ताकि वे सर्विलांस से पकड़ में न आएं।

बांग्लादेश में परिवार को भेजते थे रुपये

गिरफ्तार बांग्लादेशी नागरिकों के परिवार बांग्लादेश में ही रहते हैं। वे चार वर्ष बाद वहां जाते थे। कुछ दिन बाद ही परिवार को मनी ट्रांसफर कर देते थे।

----

दस हजार में करते थे बार्डर पार

बांग्लादेशी नागरिकों को दलाल दस हजार रुपये में अवैध रूप से बार्डर पार कराता था। अब तक वे कई बार वहां जाकर आ चुके हैं। मगर, पकड़ में नहीं आए।

गिरफ्तार करने वाली टीम

आगरा यूनिट से प्रभारी इंस्पेक्टर आलोक सिंह, इंस्पेक्टर सुशांत गौर, निर्भाल सिंह, हेड कांस्टेबल निर्भाल सिंह, कांस्टेबल संजय सिंह व बरेली यूनिट शामिल रही।

inextlive from Agra News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.