स्त्री एक्टर राज कुमार राव अच्छा अभिनेता बनने के लिए कर रहे ये काम सामने आईं ऐसी ही कई रोचक बातें

2018-09-09T11:23:39+05:30

बॉलीवुड एक्टर राजकुमार राव हिंदी फिल्मों के बेहतरीन टैलेंट में से एक हैं। वैसे तो उन्हें उनकी हर फिल्म के लिए एप्रिशिएट किया जाता है लेकिन इन दिनों वह अपनी लेटेस्ट रिलीज हुई फिल्म स्त्री को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। अपने काम और अपकमिंग फिल्मों के बारे में क्या है उनका कहना आइए जानते हैं

features@inext.co.in

KANPUR:
फैशन शो में ऐसे नजर आए प्रियंका और निक एक्ट्रेस पत्रलेखा को उनकी फिल्म 'सिटीलाइट्स' के लिए काफी एप्रिसिएशन मिला था। क्रिटिक्स ने भी उनके काम की सराहना की थी। इसके बाद वह काम के अलावा अपने ब्वॉयफ्रेंड राजकुमार राव के साथ अपने रिलेशनशिप के लिए ज्यादा पॉपुलर रहीं। लेकिन अब जल्द ही वो परिणीता और मर्दानी जैसी अपने आठ साल के फिल्मी करियर में 'शाहिद', 'न्यूटन', 'ट्रैप्ड', 'शैतान', 'काई पो छे' और 'क्वीन' जैसी फिल्में करके राजकुमार राव ने फिल्म इंडस्ट्री में अपने लिए बिल्कुल अलग जगह बना ली है।

अनकन्वेंशनल हीरो की है इमेज

वो जाने ही जाते हैं अलग तरह के रोल्स के लिए और खुद भी मानते हैं कि वो यहां एक अनकन्वेंशनल हीरो की इमेज को एंज्वॉय करते हैं। अपने एक रीसेंट इंटरव्यू में उन्होंने कहा, 'कन्वेंशनल चीजें या वो जो सब कर रहे हैं, उसे करने में क्या मजा है। मैं तो यही चाहूंगा कि लोग मुझे अनकन्वेंशनल एक्टर के तौर पर ही जानें। मुझे ऐसे ही अच्छा लगता है। मुझे डिफरेंट चीजें करना पसंद है। ये मुझे एक अच्छा एक्टर बनने के लिए बूस्ट करता है।'
क्या होता है वर्क प्रेशर
राजकुमार से जब वर्क प्रेशर के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि वो कभी प्रेशर में काम नहीं करते। वह कहते हैं, 'मैं प्रेशर नहीं लेता। मैं सच में प्रेशर में काम कर ही नहीं सकता। मैं एक बार में एक ही फिल्म करता हूं और उस वक्त उन मोमेंट्स और उस कैरेक्टर को जीने की कोशिश करता हूं। मैं वो शख्स नहीं हूं जो ये सोचे कि आने वाले पांच सालों में क्या होगा और न ही मैं पास्ट में रहता हूं। मेरी सारी एनर्जी मेरे प्रेजेंट में ही यूज होती है।'
हो रहा जॉनर शिफ्ट?
राजकुमार ने 'बरेली की बर्फी', 'बहन होगी तेरी' और 'स्त्री' जैसी फिल्में करके खुद को सीरियस फिल्मों से लाइट-हार्टेड फिल्मों की तरफ शिफ्ट किया है। इस बारे में वह कहते हैं, 'ऐसा करने के पीछे कोई खास वजह नहीं है। 'बरेली की बर्फी' की स्क्रिप्ट मुझे अच्छी लगी थी। लेकिन अच्छी बात ये थी कि लोगों ने इसे एक्सेप्ट कर लिया। इनफैक्ट, इसने मुझे सोचने पर मजबूर भी किया कि क्यों न इस जॉनर को एक्सप्लोर किया जाए। मैं सिर्फ इंटेंस ही नहीं बल्कि दूसरे जॉनर भी एक्सप्लोर करते रहना चाहता हूं।'
'स्त्री' की रिलीज का पहला हफ्ता पूरा, सात दिनों में कर डाली इतनी कमाई अब 'पल्टन' और 'नन' की बारी आई
राज कुमार राव की फिल्म 'स्त्री' का भूत इस बॉलीवुड पर्सनैलिटी की रिलय लाइफ से रखता है ताल्लुक


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.