मॉडल शॉप में व्हिस्की हो या रम ओवरचार्जिग कराने वाले इंस्पेक्टर होंगे बेदम

2019-06-17T09:48:42+05:30

गोरखपुर में लिकर शॉपस पर ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट की छापेमारी के बाद ओवरचार्जिग करने वाले आबकारी इंस्पेक्टर्स जिला प्रशासन के रडार पर आ गये हैं और उन पर कार्रवाई करने की प्रक्रिया आरंभ हो गई है।

GORAKHPUR: व्हिस्की, वाइन हो या फिर बीयर, इन सभी पर होने वाली ओवरचार्जिग के प्रति लापरवाही बरतने वाले आबकारी इंस्पेक्टर जिला प्रशासन के रडार पर आ चुके हैं। करीब आठ आबकारी इंस्पेक्टर्स पर कार्रवाई की कवायद शुरू कर दी गई है। बता दें, बीते दिनों जिला प्रशासन की तरफ से की गई छापेमारी में अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानों में तमाम गड़बडि़यां पाई गई थीं, जिसकी रिपोर्ट जिला प्रशासन की तरफ से शासन को भेजी जाएगी। इस रिपोर्ट में आठ आबकारी इंस्पेक्टर्स की भी भूमिका सवालों के घेरे में दिखाई गई है।

 

सामने आई मिलीभगत, होगी कार्रवाई

बता दें, पिछले दिनों ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट की तरह से सिटी के अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानों में छापेमारी की गई थी। इस दौरान आबकारी अधिकारी विजय प्रताप सिंह को इन दुकानों के खिलाफ जुर्माना वसूलने का निर्देश दिया गया था। वहीं शासन के आदेश पर की गई छापेमारी में अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानों में स्टॉक रजिस्टर, गंदगी के अलावा तमाम अन्य खामियां भी पाई गईं। साथ ही ओवरचार्जिग में कुल आठ आबकारी इंस्पेक्टर्स की भूमिका भी संदिग्ध पाई गई है। बताया जा रहा है कि इनके खिलाफ भी जल्द कार्रवाई की जाएगी।

 

खुलेआम होती है ओवरचार्जिग

इन दिनों सिटी के अंग्रेजी शराब की दुकानों में जबरदस्त ओवरचार्जिग की शिकायत आ रही थी। साथ ही अनियमितता की भी शिकायत थी। इसमें आबकारी इंस्पेक्टर्स की मिलीभगत से ओवर चार्जिग व अनियमितता की शिकायत पर ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट-एसडीएम सदर प्रथमेश कुमार ने गुरुवार को मोहरीपुर से लेकर सिक्टौर होते हुए रघुनाथ चौराहे के बीच की दुकानों पर छापेमारी की। इस दौरान एसडीएम ने स्टॉक रजिस्टर, गंदगी और ओवर चार्जिग समेत अन्य मामलों की जांच की थी। इन दुकानों के अलावा सिटी के कई अन्य मॉडल शॉप में भी होने वाली ओवरचार्जिग के भी शिकायत पर आबकारी इंस्पेक्टर रडार पर आ चुके हैं।

 

वर्जन

शराब की दुकानों पर छापेमारी की गई थी। इसकी जांच चल रही थी। इस मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। आबकारी इंस्पेक्टर की जिम्मेदारी होती है कि वे इस तरह की अनियमितता पकड़ें। लापरवाही करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

- प्रथमेश कुमार, ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट-एसडीएम, सदर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.