बाल विकास मंत्री बोलीं सुसाइड पर संदेह

2019-05-17T06:01:02+05:30

केदारपुरम स्थित बालिका निकेतन में बालिका की मौत मामले में महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने सुसाइड की बात पर संदेह जताया है। उन्होंने कहा कि दरवाजे के हत्थे पर चुन्नी बांधकर सुसाइड की बात गले नहीं उतरती। वह खुद बालिका निकेतन पहुंची और कहा कि फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट का वेट है। तभी सच्चाई सामने आएगी। इस मामले में उन्होंने जांच कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं।

--

ये है मामला

वेडनसडे को बालिका निकेतन में एक बालिका ने वॉशरूम में सुसाइड कर लिया। सुबह से सिरदर्द की बात कहते हुए कमरे में लेटी रही और मौका मिलते ही यह कदम उठा लिया। हालांकि बालिका निकेतन प्रबंधन पक्ष सुसाइड की बात पर पर्दा डालता रहा। इस पर बाल आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी मौके पर पहुंची थी। उन्होंने वेडनसडे नाइट को ही प्रोबेशन अधिकारी सहित पूरे स्टाफ को बच्चों से अच्छा बिहेव और समय-समय पर उनकी काउंसलिंग करने की बात कही थी।

--

एंबुलेंस की होगी व्यवस्था

बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने बालिका, शिशु और नारी निकेतन के लिए जल्द से जल्द एंबुलेंस की व्यवस्था किए जाने की बात कही। ताकि समय पर बच्चों, बालिकाओं और संवासिनियों को उपचार दिया जा सके। साथ ही उन्हों राज्यभर के सभी नारी और बालिका निकेतन में 138 पदों को भरने की बात कही। ताकि बच्चों की देखभाल सही तरीके से हो सके। उनके सामने प्रबंधन ने स्टाफ की कमी की बात रखी थी।

दो सदस्यीय कमेटी करेगी जांच

मामले पर जांच करने के लिए बाल विकास मंत्री ने तुरंत ही जांच कमेटी गठित करने की बात कही। उन्होंने अपर सचिव महिला कल्याण योगेंद्र यादव को इसकी जिम्मेदारी सौंपी और कहा कि जांच कर सुसाइड करने के तरीके एवं अस्पताल में ले जाने में हुई देरी के कारणों का पता लगाया जाए। निरीक्षण के दौरान अपर सचिव योगेंद्र यादव, मुख्य प्रोबेशन अधिकारी मोहित चौधरी, जिला प्रोबेशन अधिकारी मीना बिष्ट आदि उपस्थित थे।

--

सिटी मजिस्ट्रेट भी कर रहे जांच

बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने बताया कि मामले की जांच सिटी मजिस्ट्रेट भी कर रहे हैं। विभागीय जांच व्यवस्थाओं में कमी एवं सुधार के लिए है। जबकि मजिस्ट्रेट की जांच में कई बिंदुओं पर गहनता से पड़ताल की जाएगी।

सुबह से सिर दर्द बता रही थी

वेडनसडे को बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ने इस प्रकरण पर बालिकाओं से बंद कमरे में बात की। ऊषा नेगी ने कहा कि बालिका के वेडनसडे को सुबह से ही सिर में दर्द होने की बात बताई गई। जबकि वही बालिका एक दिन पहले तक सबके बीच प्रोग्राम के लिए डांस प्रैक्टिस कर रही थी। लेकिन अचानक ही वह सिर दर्द की बात कह, अगले दिन प्रैक्टिस में शामिल नहीं होती और कमरे में लेटी रही। इसके बावजूद बालिका निकेतन प्रबंधन ने उसका हाल नहीं पूछा और मौका पाकर उसने सुसाइड कर लिया।

inextlive from Dehradun News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.