तेजस्वी यादव ने मायावती व अखिलेश से कही ये खास बात शिवपाल यादव को मिला चुनाव चिन्ह

2019-01-15T10:47:37+05:30

उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश यादव के लाेकसभा चुनाव से पहले हाथ मिलाने के बाद देश की कई दूसरी राजनैतिक पार्टियां इसका समर्थन कर रही हैं। कल आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने मायावती और अखिलेश से मुलाकात की।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: बसपा अध्यक्ष मायावती से मिलने के बाद आज आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी मुलाकात की और सपा-बसपा गठबंधन को आरजेडी का समर्थन देने का ऐलान किया। साथ ही इस गठबंधन को देश की दशा व दिशा बदलने वाला बताया। तेजस्वी ने केंद्र सरकार के साथ बिहार के मुख्यमंत्री पर भी निशाना साधा। उन्होंने सीबीआई व ईडी जैसी एजेंसी को भाजपा व आरआरएस का अनुषंगिक संगठन बताते हुए कहा कि देश में लोग नागपुरिया कानून लागू कर आरएसएस का एजेंडा चलाना चाहते हैं। साथ ही केंद्र सरकार द्वारा बिहार को विशेष पैकेज न दिए जाने पर पीएम मोदी और बिहार के सीएम नीतिश कुमार को भी घेरा। वहीं अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा के गठबंधन पर हमारे लिए बसपा के आगे सीटों के लिए नाक रगड़ने को कहा है तो मैं उन्हे बताना चाहता हूं कि नाक वो रगड़ता है जो हार रहा होता है। ये सब जान रहे हैं कि 2019 में किसकी हार होने वाली है। पूरे देश की जनता नाराज है, युवक बेरोजगार हैं, नौकरियां हैं नही। सपा-बसपा गठबंधन से सब ओर खुशी का माहौल है। तंज कसा कि कुंभ में लोग मोक्ष के लिए आते हैं। सीएम योगी ने मोक्ष के लिए नेताओं को कुंभ आने का निमंत्रण भेजा है।
शिवपाल चुनावी मोड में, मिला चुनाव चिन्ह
वहीं दूसरी ओर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी को केंद्रीय चुनाव आयोग द्वारा 'चाभी' चुनाव चिन्ह मिलने के शिवपाल सिंह यादव भी पूरी तरह चुनावी मोड में आ गये हैं। प्रसपा ने आयोग में प्रदेश में सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए चुनाव चिन्ह आवंटित करने का आवेदन किया था। सपा-बसपा गठबंधन में जगह न मिलने और भाजपा द्वारा प्रसपा को फंडिंग किए जाने के आरोपों के बाद शिवपाल भी मंगलवार को लोकसभा चुनाव को लेकर कुछ अहम घोषणाएं कर सकते है। उन्होंने हाल ही में 15 जनवरी को प्रसपा प्रत्याशियों के नामों का ऐलान करने की बात भी कही थी। वहीं सूत्रों की मानें तो शिवपाल और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में चुनावी गठबंधन को लेकर बातचीत का दौर जारी है। फिलहाल अभी तक दोनों पार्टियों ने इस पर खुलकर नहीं बोला है पर यह माना जा रहा है कि जल्द ही इस बाबत कोई निर्णय ले लिया जाएगा।

डरे हुए लोगों का गठबंधन

वहीं राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पत्रकारों से कहा कि तथाकथित डरे हुए लोगों के इस गठबंधन को जनता चुनाव में माकूल जवाब देगी। जिन परिवारों के घर में बिजली और गैस पहुंची है, शौचालयों का निर्माण हुआ, जिन्हें आयुष्मान योजना का लाभ मिला, वे सभी सपा-बसपा के इस गठबंधन को हराने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि चौकीदार के डर से ही एक ही जैसी प्रवृत्ति के लोग एकजुट हो रहे है। अपना अस्तित्व बचाने के लिए वे गठबंधन कर रहे है। उनका इतिहास गवाह है कि उन्होंने केवल अपने परिवार को आगे बढ़ाया। जो लोग लामबंद हो रहे हैं उनमें से कई जेल में है तो कई बेल पर। कुछ लोगों के जेल जाने का नंबर भी आ सकता है। उन्होंने कहा कि खनन घोटाले की जांच बीजेपी के कहने पर नहीं, हाईकोर्ट के आदेश पर हो रही है। विपक्षी दलों की चोरी और सीनाजोरी एक साथ नहीं चलने वाली है।
सपा विधायक ने दिखाए बागी तेवर
सपा-बसपा गठबंधन से नाराज फिरोजाबाद के सिरसागंज से सपा विधायक हरिओम यादव ने कहा कि फिरोजाबाद में यह गठबंधन नहीं चलेगा। ये गठबंधन तभी तक चल सकता है जब तक हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष 'बहनजी' की हां में हां मिलाते रहेंगे और घुटने टेकते रहेंगे। वहीं शिवपाल यादव को लेकर सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव के बयान पर भी उन्होंने गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि इस तरह का निंदनीय बयान किसी राष्ट्रीय नेता को शोभा नहंी देता है। उन्होंने कहा कि अक्षय यादव फिरोजाबाद से चुनाव हार जाएंगे।

मायावती धूमधाम से मनाएंगी 63वां बर्थडे, आज कर सकती हैं ये बड़ा ऐलान

लाेकसभा चुनाव में सभी 80 सीटों पर लड़ेगी कांग्रेस : गुलाम नबी आजाद


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.