गोरक्षनाथ शोध पीठ से मिलेगी आध्यात्मिक चेतना सीएम

2018-12-01T06:00:57+05:30

-गुरु गोरक्षनाथ शोध पीठ के भवन की सीएम ने रखी आधारशिला

-डायबिटीज को कंट्रोल करने की दिशा में अभिनव प्रयास करने वाले 14 डॉक्टर सम्मानित

GORAKHPUR: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत की मूल परंपरा अध्यात्मिक रही है। इसी के बल पर भारत ने विश्व का नेतृत्व किया है। गुरु श्री गोरक्षनाथ ऐसे ही ऋषि हैं, जिन्होंने युगों तक भारतीय सांस्कृतिक चेतना को जागृत किया है। आज के समय में एक बार हमें आवश्यकता है स्वचेतना जागृति की, जिससे हमारा सांस्कृतिक-आध्यत्मिक और बौद्धिक अभ्युदय हो सके। गोरखपुर विश्वविद्यालय में गुरु गोरक्षनाथ शोध पीठ के भवन की आधारशिला रखते हुए योगी ने आशा जताई कि गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्थापित होने जा रहा गुरु गोरक्षनाथ शोध पीठ का उद्देश्य निश्चित ही सफल होगा। सीएम ने डायबिटीज को कंट्रोल करने की दिशा में अभिनव प्रयास करने वाले 14 डॉक्टरों को सम्मानित किया।

पीठ की स्थापना यूपी सरकार का संस्कृति मंत्रालय व गोरखपुर यूनिवर्सिटी मिलकर करेंगे। विश्वविद्यालय के एमपी परिसर में बनने जा रहे शोधपीठ के चार मंजिला भवन व गेस्ट हाउस निर्माण के लिए पिछले दिनों प्रदेश सरकार ने 13.84 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। राज्य सरकार द्वारा स्थापित गुरु गोरक्षनाथ शोधपीठ में विभिन्न श्रेणी के 28 पदों भी सृजित किए गए हैं, जिन पर नियुक्तियां होनी हैं।

महाविद्यालय 5-5 गांवों को गोद लें: धीरेन्द्र

शोधपीठ की वेबसाइट का लोकार्पण यूजीसी के चेयरमैन प्रो। धीरेंद्र पाल सिंह ने किया। कहा कि महाविद्यालयों को समाज से जीवंत रिश्ता बनाना होगा। इसके लिए सभी महाविद्यालय 5-5 गांवों को गोद लेकर उन्हें विकसित करने में भूमिका अदा करें। क्योंकि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। स्टूडेंट्स में शिक्षा के साथ ही धार्मिक विकास की भी जरूरत है। उन्होंने उच्च शिक्षा की गुणवत्ता के लिए सभी महाविद्यालयों को नैक मूल्यांकन के लिए प्रोत्साहित किया। राज्य संपर्क अधिकारी अंशुमाली शर्मा ने कहा युवा देश की धरोहर होते हैं। हमें युवाओं को आगे कर देश के निर्माण में अपनी महती भूमिका अदा करनी चाहिए। डॉ कन्हैया सिंह ने कहा कि हम सबको स्वामी विवेकानंद के कथन को याद रखना चाहिए।

बच्चों ने किया योग आसन

योग गुरु राजशेखर ने बच्चों को योगासन कराया और योग के महत्व से परिचित कराया। उन्होंने बच्चाें को योग के विभिन्न आसनों के बारे में विस्तार से बताया और नियमित योग के लिए प्रेरित किया। इससे पहले कुलपति प्रो। वीके सिंह ने चीफ गेस्ट व स्पेशल गेस्ट का वेलकम किया। कुलपति ने यूनिवर्सिटी के कार्यो का ब्यौरा पेश किया। संचालन प्रो। रविशंकर सिंह ने किया।

विश्वविद्यालय परिसर में गूंजी गोरखबानी

सीएम के आने से पहले योग प्रदर्शन का कार्यक्रम हुआ। इसके बाद लोकगायक राकेश श्रीवास्तव एवं उनकी टीम ने गोरखबानी की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर योग और महायोगी गोरखनाथ विषय पर डॉ। कन्हैया सिंह का व्याख्यान भी हुआ तो शोधपीठ की वेबसाइट एवं डॉ। प्रदीप राव द्वारा लिखित किताब नाथपंथ का विमोचन भी हुआ।

मौके पर विधायक, जनप्रतिनिधि, एमएमएमयूटी के कुलपति प्रो। एसएन सिंह, इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो। राजेंद्र प्रसाद, यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर योगेंद्र सिंह, प्रो। रजनीकांत पांडे, डॉ अंशु शर्मा, प्रो। विनोद कुमार सिंह, प्रो अजय कुमार शुक्ला, प्रो। श्री प्रकाश मणि त्रिपाठी आदि मौजूद थे।

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.