गोरखपुराइट यूथ नहीं होना चाहते स्टैंडअप

2018-12-31T06:00:42+05:30

- स्टैंडअप इंडिया के तहत जिले के बैंकों को 756 के सापेक्ष मिले केवल 107 आवेदन, बांटा गया 14.79 करोड़ का लोन

GORAKHPUR: अनुसूचित जाति, जनजाति व महिलाओं में उद्यमशीलता को प्रेरित करने के लिए शुरू की गई केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना स्टैंडअप इंडिया स्कीम के प्रति गोरखपुर के युवाओं में सक्रियता का अभाव है। जिले के युवाओं की उदासीनता के कारण बैंकों की ओर से निर्धारित लक्ष्य का 20 प्रतिशत भी पूरा नहीं हो सका है। वित्तीय वर्ष 2018- 19 में यहां पर बैंकों ने 756 लोगों को स्टैंडअप इंडिया स्कीम के तहत लाभांवित करने का लक्ष्य निर्धारित किया था। जबकि सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के प्रति बेहद कम लोगों ने दिलचस्पी दिखाई। प्राप्त आवेदनों में से 107 लाभार्थियों को 14.79 करोड़ का लोन दिया गया है।

बैंक ब्रांचेज में नहीं मिलती डिटेल

सूत्रों की मानें तो यहां स्टैंडअप इंडिया में आवेदकों की संख्या कम होने के कई कारण हैं। गोरखपुर में साक्षरता का अभाव है, साथ ही स्थानीय स्तर पर योजना का पर्याप्त प्रचार नहीं किया गया है। एक समस्या यह भी सामने आती है कि स्टैंडअप योजना की डिटेल सभी ब्रांचेज पर नहीं मिलती है। ब्रांचों पर संपर्क करने पर बैंक जानकारी नहीं दे पाते हैं जिससे आवेदकों का उत्साह हल्का पड़ जाता है। कुछ आवेदकों ने यह भी बताया कि बैंककर्मियों को भी पूरी जानकारी नहीं होती है।

क्या है स्टैंडअप इंडिया स्कीम

सामाजिक विकास की दौड़ में पिछड़ चुके अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व महिलाओं को उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्र सरकार ने यह योजना शुरू की थी। इसके तहत चयनित लोगों को कार्यशील पूंजी के लिए 10 लाख से 1 करोड़ रुपए तक का लोन देने की योजना है। सरकार ने इसे रोजगार की संभावना को बढ़ाने के लिए लागू किया है। निर्माण या व्यापार किसी भी एरिया में निवेश के लिए स्टैंडअप योजना के तहत आवेदन किया जा सकता है। कंपनी या फर्म में निवेश के लिए आवेदक की हिस्सेदारी 51 फीसदी से अधिक होनी चाहिए।

योजना के लिए योग्यता

आवेदक अनिवार्य तौर पर अनुसूचित जाति- अनुसूचित जनजाति या महिला होना चाहिए। आवेदक की उम्र 18 साल से अधिक होनी चाहिए। निवेश का एरिया निर्माण, सेवा या व्यापार ही होना चाहिए। साथ ही आवेदक किसी भी तरह के लोन का डिफॉल्टर नहीं होना चाहिए। आवेदन के लिए आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, व्यवसाय का अड्रेस प्रूफ, पैन कार्ड, अनुसूचित जाति- अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए जाति प्रमाण पत्र, पासपोर्ट साइज फोटो, बैंक डिटेल देना होगा। इसके अलावा प्रोजेक्ट डिटेल के साथ बैंक ब्रांच या स्टैंडअप इंडिया की वेबसाइट पर आवेदन किया जा सकता है।

इन बैंकों ने बांटा लोन

बैंक खाता रकम

एसबीआई 33 3.69 करोड़

पूर्वाचल बैंक 2 1.52 करोड़

इलाहाबाद बैंक 10 1.10 करोड़

सेंट्रल बैंक 6 71 लाख

यूनियन बैंक 4 31 लाख

अन्य बैंक 52 7.46 करोड़

कुल 107 14.79 करोड़

वर्जन

स्टैंडअप लोन के लिए शहर के लोगों ने इंट्रेस्ट ही नहीं दिखाया है। जिन लोगों ने आवेदन किया सभी को योजना का लाभ मिला है। बैंकों को और सुधार के लिए निर्देश दिए गए हैं।

- महेश प्रसाद गुप्ता, लीड बैंक मैनेजर एसबीआई

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.