कुछ चीजों से जीएसटी हटा तो कुछ पर घटा यहां जानें क्या होगा सस्ता आैर क्या महंगा

2018-07-22T01:18:54+05:30

केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में हुई बैठक में जीएसटी काउंसिल ने 50 से अधिक वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दरें घटाने का निर्णय लिया। एेसे में यहां जानें क्या होगा सस्ता आैर क्या महंगा

नर्इ दिल्ली (आर्इएएनएस )। जीएसटी काउंसिल ने सैनिटरी नेपकिन , राखी, झाडू, पत्थर, मार्बल व लकड़ी से बनी मूर्तियों को जीएसटी के दायरे से बाहर करने का निर्णय लिया है। नेपकिन पर जीएसटी घटाने की मांग एक साल से थी।

टीवी, फ्रिज और वाशिंग मशीन पर 18 प्रतिशत जीएसटी

जीएसटी दर घटने से टीवी, फ्रिज और वाशिंग मशीन आदि सस्ते हो जाएंगे। फ्रिज, टेलीविजन, वाशिंग मशीन समेत कई वस्तुओं पर जीएसटी की दर 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत किए जाने का निर्णय लिया गया है।
इन आइटमों पर टैक्स 18 से घटाकर 12 प्रतिशत हुआ
जूलरी बॉक्स, हैंडबैग्स,  पेटिंग के लिए लकड़ी के बॉक्स, आर्टवेयर ग्लास, हाथ से बने लैंप पर टैक्स 12 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत करने का फैसला किया गया है। बांस से बने सामान पर टैक्स 18 से घटाकर 12 प्रतिशत हुआ।
घरेलू उपकरणों पर भी जीएसटी की दर कम करने निर्णय
इसके अलावा तराशे हुए कोटा पत्थर, सैंड स्टोन और स्थानीय पत्थरों पर जीएसटी दर 18 से घटाकर 12 प्रतिशत करने का निर्णय लिया गया है। कर्इ घरेलू उपकरणों पर भी जीएसटी की दर कम करने का निर्णय हुआ है।  

एक हजार रुपये तक के जूते पर 5 प्रतिशत जीएसटी

हस्तशिल्प उत्पादों पर जीएसटी में राहत दी गयी है। हैंडलूम की दरी पर टैक्स भी 12 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत किया गया है। एक हजार रुपये तक के जूते पर 5 प्रतिशत जीएसटी लगाने का निर्णय लिया गया है।
ईथनॉल पर भी 18 प्रतिशत से कम कर 5 प्रतिशत
खाद में इस्तेमाल होने वाले फॉस्फेरिक एसिड पर जीएसटी दर 12 प्रतिशत से 5 प्रतिशत आैर ईथनॉल पर भी 18 प्रतिशत की जगह अब 5 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। इससे चीनी उद्योग और गन्ना किसानों को बड़ी राहत मिलेगी।

इन्हें मासिक रिटर्न की जगह तिमाही रिटर्न भरना होगा
सालाना पांच करोड़ रुपये से कम टर्नओवर वाले कारोबारियों को मासिक रिटर्न की जगह तिमाही रिटर्न भरना होगा। हालांकि इसके लिए जीसएटी में पंजीकृत 93 प्रतिशत कारोबारियों जीएसटी हर माह जमा करना होगा।
5 लाख रुपये तक सेवाओं की आपूर्ति की छूट  मिलेगी
वहीं कंपोजीशन स्कीम की लिमिट सालाना टर्नओवर एक करोड़ से बढ़ाकर डेढ़ करोड़ रुपये का करने निर्णय किया। इसके डीलरों को टर्नओवर का 10 प्रतिशत या अधिकतम  5 लाख रुपये तक सेवाओं की आपूर्ति की छूट मिलेगी।
जीएसटी परिषद की अगली बैठक 4 अगस्त को होनी
वित्त मंत्री पियूष गोयल ने कहा कि टैक्स दरों में बदलाव की वजह से करीब 100 आइटम्स की कीमतों पर असर पड़ेगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जीएसटी परिषद की अगली बैठक 4 अगस्त को होनी है।

जीएसटी पर किया मंथन, दूर हुआ कंफ्यूजन

रिटर्न का होगा सरलीकरण, आरसीएम से मिलेगा छुटकारा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.