अहमदाबाद इमारतों के मलबे से अब तक निकाले गए 4 लोग राहत व बचाव कार्य जारी

2018-08-27T10:02:12+05:30

अहमदाबाद में रविवार रात ढही दो इमारतों से अब तक चार लोगों को बाहर निकाला गया है। वहीं अभी 810 लोगों के दबे होने की आशंका है। ओढव इलाके में करीब दो दशक पहले एक सरकारी आवासीय योजना के तहत इनका निर्माण हुआ था।

अहमदाबाद (पीटीआई)। गुजरात के अहमदाबाद में रविवार रात दो चार मंजिला इमारतें के गिरने के बाद से यहां राहत व बचाव कार्य जारी है। इस हादसे को लेकर गुजरात के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने बताया कि घटना के बाद से प्रशासन, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और फायर ब्रिगेड की टीमें  टीम बचाव कार्य में लगी हैं। ये टीमें बचाव अभियान में आधुनिक उपकरणों का प्रयोग कर रही हैं। इसके अलावा उन्होंने बताया कि अहमदाबाद नगर निगम के अधिकारियों ने शनिवार को इस ब्लाॅक को खाली करा दिया था।
अब तक मलबे से चार लोगों बाहर निकाला जा चुका है
अधिकारियों को इमारत की हालत देखकर आशंका थी कि ये किसी भी समय गिर सकती है लेकिन कुछ लोग फिर से यहां रहने पहुंच गए थे। एेसे में रात को जिस समय यह इमारत ढही है उस वहां मौजूद लोग मलबे में दब गए हैं। क्षेत्रीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी 8-10 लोगों के मलबे के नीचे फंसने की आशंका है। हालांकि फंसे लोगों की सही संख्या अभी स्पष्ट नहीं है। वहीं इस सबंंध में एएमसी सहायक मुख्य अग्निशमन अधिकारी राजेश भट्ट ने कहा कि अब तक चार लोगों को बचाया गया है। इसके अलावा बचाव व राहत कार्य जारी है।
बारिश के कारण कुछ लोग इमारत में रहने पहुंच गए थे
वहीं अहमदाबाद के महापौर बिजल पटेल ने कहा, एएमसी के अधिकारियों ने पहले ही लोगों को अपने घर खाली करने के लिए कहा था लेकिन कुछ निवासी बारिश के कारण आज इमारत में लौट आए थे। हादसे को लेकर एएमसी कमिश्नर विजय नेहरा ने कहा कि सरकारी कॉलोनी के निर्माण के दो इमारतों में करीब 300 लोग रह रहे थे। ये दोनों ब्लाॅक पूरी तरह से ध्वस्त हो गए हैं।एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने जिला कलेक्टर को फंसे लोगों को निकालने के लिए एनडीआरएफ की सेवाएं लेने का निर्देश दिया था।

बस्ती में नेशनल हाईवे पर निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिरा, मजदूर घायल

बिल्डिंग हादसा : नोएडा अथॉरिटी और पुलिस को अवैध निर्माण का था पता

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.