मूल्यांकन में योगदान की दी रिपोर्ट नहीं तो कटवाएं सैलरी

2019-03-12T06:00:57+05:30

- सभी केंद्रों पर डीएचई व परीक्षकों नहीं पहुंचने धीमी गति से चल रहा मूल्यांकन

- अभी 166 डीएचई और 1053 एग्जामिनर नहीं आ रहे मूल्यांकन में

बरेली : जिले के पांच केंद्रों पर मूल्यांकन कार्य चल रहा है। अभी भी सभी केंद्रों पर डीएचई व एग्जामिनर नहीं पहुंच सके हैं। सभी केंद्रों पर मूल्यांकन की जो स्थिति है, उससे साफ है कि मूल्यांकन समय से पूरा नहीं हो सकेगा। यहां तक की अफसरों ने चेतावनी भी दी है, इसके बावजूद मूल्यांकन कार्य में तेजी नहीं आ रही है.

10 मार्च से शुरू हुआ मूल्यांकन

दस मार्च से सभी केंद्रों पर मूल्यांकन कार्य शुरू हो गया है। एफआर इस्लामियां केंद्र पर संडे को स्टेनोग्राफर की परीक्षा होने के कारण दोपहर में सिर्फ मूल्यांकन की बैठक करके डीएचई व एग्जामिनर चले गए। मंडे को सभी केंद्रों पर मूल्यांकन शुरू हो गया, लेकिन डीएचई व एग्जामिनर के अबसेंट होने से निर्धारित कॉपियां नहीं चेक हो सकी, जिससे मूल्यांकन कार्य में तेजी नहीं आई। वहीं मूल्यांकन कार्य 15 दिन में खत्म होने के आसार नहीं दिख रहे हैं.

रिपोर्ट न देने पर कटेगी सैलरी

प्रभारी डीआइओएस डॉ। अवनीश यादव ने जिन विद्यालयों के शिक्षकों को डीएचई व परीक्षक बनाया है, उन्हें तुरंत कार्य मुक्त करने के निर्देश संबंधित प्रधानाचार्यो को दिए हैं। इसके अलावा डीएचई व परीक्षक को कहा है कि वो मूल्यांकन केंद्र पर पहुंचकर योगदान रिपोर्ट उपलब्ध कराएं, नहीं तो उनका सैलरी काटी जाएगी.

यह रही स्थिति

हाईस्कूल

गुलाबराय आवंटित उपस्थित अनुपस्थित

डीएचई 41 31 10

परीक्षक 414 243 171

कापियां चेक 4145

जीजीआइसी आवंटित उपस्थित अनुपस्थित

डीएचई 46 36 35

परीक्षक 444 206 261

कापियां चेक 4703

बिशप मंडल आवंटित उपस्थित अनुपस्थित

डीएचई 39 25 14

परीक्षक 393 180 213

कापियां चेक 5774

इंटरमीडिएट

इस्लामियां आवंटित उपस्थित अनुपस्थित

डीएचई 39 24 15

परीक्षक 360 174 186

कापियां चेक 3900

जीआईसी आवंटित उपस्थित अनुपस्थित

डीएचई 52 50 2

परीक्षक 431 250 181

कापियां चेक 8027

inextlive from Bareilly News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.