UPSC Result 2018 कनिष्क कटारिया बने टॉपर महिलाओं में सृष्टि जयंत देशमुख अव्वल

2019-04-06T14:42:09+05:30

यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम 2018 के रिजल्ट डिक्लेयर हो गए हैं। इसमें आईआईटी बॉम्बे से बीटेक करने वाले कनिष्क कटारिया ने टाॅप किया है। वहीं सृष्टि जयंत देशमुख को आल इंडिया में 5वीं रैंक मिली है और उन्होंनें महिलाओं में टाॅप किया है।

नई दिल्ली (पीटीआई)। यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम के रिजल्ट कल शुक्रवार को घोषित हो गए हैं। रिजल्ट के बाद लेकर UPSC ने कहा कि कुल 759 उम्मीदवारों ने (577 पुरुष और 182 महिला) सफलता हासिल की है। ये आईएएस, आईपीएस, आईएफएस आदि के पदों पर नियुक्त किए जाएंगे। कनिष्क कटारिया ने सिविल सर्विसेज फाइनल परीक्षा 2018 में टॉप किया है। कनिष्क ने आईआईटी बॉम्बे से बीटेक किया है। आईआईटी गुवाहाटी से इंजीनियरिंग करने वाले अक्षत जैन ने सेंकेंड रैंक पाई है।
सृष्टि जयंत देशमुख को आल इंडिया में 5वीं रैंक मिली

वहीं सृष्टि जयंत देशमुख को आल इंडिया में 5वीं रैंक मिली है। सृष्टि जयंत देशमुख ने महिला उम्मीदवारों में टाॅप किया है। टाॅप 25 कैंडीटेड की बात करें तो इसमें 15 पुरुष और 10 महिलाएं शामिल हैं। टॉपर कनिष्क कटारिया एससी कैटेगरी से हैं। उन्होंने यूपीएससी में वैकल्पिक विषय में मैथ ली थी। उन्होंने (कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग) से बीटेक किया है। वहीं सृष्टि जयंत देशमुख ने भोपाल के राजीव गांधी प्रज्ञायोगी विश्व विद्यालय से बी ई (केमिकल इंजीनियरिंग) किया है।

जानें क्या कहते हैं यूपीएससी के टाॅपर्स

ऑल इंडिया टॉप करने वाले कनिष्क को उनके पैरेंट्स, सिस्टर और गर्लफ्रेंड ने बहुत मोटिवेट और सपोर्ट किया है। आज वह उनकी वजह से ही इस मुकाम तक पहुंचे हैं। वहीं सेकेंड रैंक पाने वाले अक्षत जैन का इस परीक्षा में शामिल होने के पीछे उनका समाज की सेवा करना था। उनके पिता एक IPS अधिकारी और मां एक भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी हैं। उन्हेांने ही सिविल सेवाओं में शामिल होने के लिए मोटिवेट किया। अक्षत का कहना है कि मैं अपने स्टेट राजस्थान में एक IAS अधिकारी के रूप में सेवा करना चाहूंगा।  वहीं सृष्टि जयंत देशमुख भोपाल की रहने वाली हैं। उनके पिता इंजीनियर और मां स्कूल टीचर हैं। सृष्टि कहती हैं मुझे लगता है कि अगर स्थिरता और अपने आप में विश्वास हो तो सभी लक्ष्यों को आसानी से पाया जा सकता है।

UPSC 2018 रिजल्ट : जमशेदपुर की अन्या को 60 तो रांची के जयेश को 703वीं रैंक


कानपुर : जापान में 3 साल नौकरी कर लौटा भारत, पास किया सिविल सर्विसेस एग्जाम

पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए कुल 1994 उम्मीदवार उत्तीर्ण हुए
सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary)  2018 का आयोजन 3 जून, 2018 को किया गया था। इस परीक्षा के लिए कुल 10,65,552 कैंडीडेट ने अप्लाई किया था। इसमें से 4,93,972 कैंडीडेट ने अटेंड किया था। वहीं सितंबर-अक्टूबर, 2018 में आयोजित लिखित (main) परीक्षा में 10,468 कैंडीडेट शामिल हुए थे। वहीं फरवरी-मार्च, 2019 में आयोजित पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए कुल 1994 उम्मीदवार उत्तीर्ण हुए थे।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.