राष्ट्रपति ट्रंप से कई मसलों पर मतभेद के बाद अमेरिकी रक्षा मंत्री मैटिस ने दिया इस्तीफा

2018-12-21T04:20:37+05:30

अमेरिका के रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कहा जा रहा है कि सीरिया से सेना वापस बुलाने समेत कई मसलों पर ट्रंप के साथ उनके मतभेद थे।

वाशिंगटन (आईएएनएस)। सीरिया से सेना बुलाने समेत कई मसलों पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ गंभीर मतभेदों के कारण अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने गुरुवार रात को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। ट्रंप को लिखे पत्र में उन्होंने कहा, आपको अपनी पसंद के किसी ऐसे व्यक्ति को चुनना चाहिए जो आपकी राय से ज्यादा सुर मिला सके। अमेरिकी मीडिया में मैटिस के इस्तीफे की खबरें आने के बाद ट्रंप ने दो ट्वीट के जरिये एलान किया कि मैटिस फरवरी के आखिर में अपना पद छोड़ देंगे। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, 'जिम मैटिस के दो साल के कार्यकाल में कई मुख्य मसलों पर कामयाबी हासिल हुई।'
ट्रंप को गए थे समझाने
मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि 68 वर्षीय मैटिस गुरुवार दोपहर अपने अंतिम प्रयास के तहत ट्रंप को यह समझाने के लिए व्हाइट हाउस गए थे कि वह अमेरिकी सेना को सीरिया से वापस ना बुलाएं लेकिन ट्रंप ने उनकी बात नहीं मानी। जब राष्ट्रपति ने उनकी बात मानने से इनकार कर दिया तो मैटिस ने उनसे कहा कि वह इस्तीफा देने जा रहे हैं। इस्तीफे के साथ भेजे पत्र में उन्होंने ट्रंप से कहा, 'आपके पास ऐसा रक्षा मंत्री रखने का अधिकार है जिसके विचार आपसे ज्यादा मिलते हों। इस्तीफा देने का यह सही वक्त है। मेरे कार्यकाल का अंतिम दिन 28 फरवरी, 2019 होगा। मेरा उत्तराधिकारी चुनने के लिए इतना समय पर्याप्त होगा।'
कई मसलों पर था विवाद
ट्रंप और मैटिस के बीच सीरिया और अफगानिस्तान समेत कई मसलों पर गंभीर मतभेद थें। कई विदेश नीतियों को लेकर भी उनके विचार मेल नहीं खाते थे। सीरिया ने अपनी सेना वापस बुलाने के फैसले पर मैटिस ने ट्रंप को चेतवानी देते हुए कहा था कि सैनिकों को बुलाना भारी रणनीतिक भूल होगी। बता दें कि सीरिया में ISIS के खिलाफ जीत दर्ज करने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को एलान किया कि वे वहां से अपनी सेना को वापस बुला लेंगे। ट्रंप के इस फैसले की कई अमेरिकी सांसद आलोचना कर रहे हैं। उनका कहना है कि अगर अमेरिकी सेना सीरिया से वापस आती है तो इससे ईरान, रूस और असद शासन का रास्ता साफ हो जायेगा, वे सीरिया को अपने कब्जे में लेने की कोशिश करेंगे। सीरिया में करीब 2,000 अमेरिकी सैनिक तैनात हैं।

सीरिया से अमेरिकी सेना वापस बुलाने के विरोध पर दी सफाई आईएसआई को काबू करने गए थे गृहयुद्घ रोकने नहीं

अमेरिका में बीमार बच्चों को खुश करने के लिए सांता बनकर अस्पताल पहुंचे ओबामा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.