पुलवामा हमले के बाद अमेरिका फ्रांस और ब्रिटेन ने संयुक्त राष्ट्र में पेश किया मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का प्रस्ताव

2019-02-28T11:41:48+05:30

पुलवामा आतंकी हमले के बाद अमेरिका फ्रांस और ब्रिटेन पूरी तरह से भारत के साथ हो गए हैं। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में आतंकी संगठन जैशएमोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव दिया है।

यूनाइटेड नेशंस (पीटीआई)। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने का एक नया प्रस्ताव दिया है। बता दें कि आतंकियों की सूची में शामिल होने के बाद मसूद की पूरी संपत्ति जब्त हो जाएगी, वह दुनिया में कहीं सफर नहीं कर पायेगा और वह किसी तरह की हथियार की खरीद-बिक्री नहीं कर सकता है।  आतंकी घोषित किये जाने वाले इस प्रस्ताव को 15-राष्ट्र सुरक्षा परिषद के तीन स्थायी वीटो-वील्डिंग सदस्यों द्वारा बुधवार को पेश किया गया। तीन सदस्यों द्वारा प्रस्तुत नए प्रस्ताव पर विचार करने के लिए सुरक्षा परिषद प्रतिबंध समिति के पास 10 दिन का समय है।
चार बार पेश हुआ प्रस्ताव
बता दें कि पिछले 10 वर्षों में यह चौथी बार है, जब संयुक्त राष्ट्र में अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव पेश किया गया है। सबसे पहले 2009 में भारत ने यूएन में अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव रखा था। इसके बाद जनवरी 2016 में पठानकोट में हवाई ठिकाने पर हमले के बाद भारत ने फिर से अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के साथ संयुक्त राष्ट्र की 1267 प्रतिबंध समिति में अजहर पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव पेश किया था। 2017 में फिर अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने इसी तरह का प्रस्ताव रखा। हालांकि, सभी मौकों पर चीन ने सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने से इनकार कर दिया। अब यह देखा जाना बाकी है कि चीन इस बार प्रस्ताव पर कैसे मतदान करेगा।
पुलवामा हमले में शहीद हुए 41 जवान
गौरतलब है कि पिछले हफ्ते बीते गुरुवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले से 41 जवान शहीद हुए थे। यह हमला जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद ने विस्फोटक कार के जरिए किया। इसके बाद इंडियन एयरफोर्स ने मंगलवार को पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कैंपों पर हमला कर दिया। इस हमले में करीब 300 से अधिक आतंकी मारे गए। भारतीय विदेश मंत्रालय के सचिव विजय गोखले ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक 2 के बाद बड़ी संख्या में जेएम आतंकियों, प्रशिक्षकों, सीनियर कमांडरों और जेहादियों के समूह का सफाया हो गया। इस हमले के बाद चीन ने भारत और पाकिस्तान को संयम बरतने के लिए कहा।

Kashmir: MI-17 हेलिकॉप्टर क्रैश में कानपुर का बेटा 'दीपक पांडेय' हुआ शहीद, पिता का गम से बुरा हाल

Surgical Strike 2 के बाद भारत-पाकिस्तान में बढ़ी तनातनी, गृहमंत्री ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.