Uttarakhand Election Results 2017और फिर जीत गए ये मिथक जो गंगोत्री में जीता उसकी उत्‍तराखंड में सरकार

2017-03-11T07:42:23+05:30

Dehradun लो जी 2017 का विधानसभा चुनाव भी निपट गया और बीजेपी प्रचंड बहुमत से चुनाव जीती है। ये जीत सिर्फ बीजेपी की ही नहीं है दिलचस्प बात ये है कि राज्य के वो मिथक भी जीत गए हैं जो राज्य की राजनीति में हमेशा से चर्चित रहे हैं। पहला मिथक तो ये है कि जो नेता गंगोत्री विधानसभा सीट से चुनाव जीतता है राज्य में उसकी ही पार्टी की सरकार बनती है। इस बार गंगोत्री से बीजेपी के गोपाल रावत ने बाजी मारी है। सबसे पहले 2002 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्र्रेस के विजयपाल सजवाण ने जीत दर्ज की थी। तब प्रदेश में एनडी तिवारी के नेतृत्व में पूरे पांच साल कांग्र्रेस की सरकार चली। बात करें दूसरे चुनाव की यानि 2007 की तो तब यहां से बीजेपी के गोपाल रावत ने चुनाव जीता और तब भुवन चंद्र खंडूड़ी के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार सत्ता में आई। 2012 में इस मिथक ने फिर जीत दर्ज की। कांग्र्रेस के विजयपाल सजवाण फिर गंगोत्री से विधायक बने और सूबे में विजय बहुगुणा के नेतृत्व में कांग्र्रेस की सरकार बनी। इस बार फिर ये मिथक सच साबित हुआ। इस चुनाव में बीजेपी के गोपाल रावत दोबारा गंगोत्री से चुनाव जीते हैं तो सूबे में बीजेपी को प्रचंड बहुमत भी मिला है।

- गंगोत्री से जीतने वाले विधायक की ही पार्टी बनाती है सरकार
- रानीखेत से हारने वाले नेता की पार्टी को मिलती है जीत
- पेयजल और शिक्षा मंत्री कभी नहीं जीत पाए दोबारा चुनाव
रानीखेत से हारे तो जीते
सूबे की राजनीति में एक और बड़ा मिथक है। ये मिथक कुमाऊं की रानीखेत सीट से जुड़ा है। कहा जाता है कि रानीखेत से जो विधायक बनता है उसकी पार्टी चुनाव में हार जाती है और सरकार नहीं बना पाती। यानि रानीखेत से जीते तो सत्ता से हारे और अगर रानीखेत से हारे तो समझो सरकार बन गई। वर्ष 2002 में हुए पहले चुनाव में अजय भïट्ट रानीखेत से विधायक बनकर आए और तब प्रदेश में कांग्र्रेस की सरकार बन गई। 2007 में

कांग्र्रेस के करन माहरा
चुनाव इस सीट से जीते तो बीजेपी ने राज्य में सरकार बना ली। 2012 के चुनाव में अजय भट्ट फिर यहां से चुनाव जीते और राज्य में बीजेपी सत्ता तक नहीं पहुंच पाई। इस बार फिर ये मिथक सच साबित हुआ है। इस चुनाव में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट हार गए हैं तो सूबे में बीजेपी प्रचंड बहुमत से सत्ता की ओर बढ़ी है।
शिक्षा और पेयजल मंत्रालय माने जाते हैं मनहूस
एक और मिथक राज्य की राजनीति में रहा है जो इस बार भी सही साबित हो गया। कहा जाता रहा है कि राज्य सरकार में जो भी शिक्षा और पेयजल मंत्री रहता है वो दोबारा चुनाव जीतकर नहीं आता। इस बार शिक्षा और पेयजल मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी देवप्रयाग से चुनाव हार गए। 2002 में बनी तिवारी सरकार में नरेंद्र भंडारी शिक्षा मंत्री रहे थे, जो 2007 के चुनाव में हार गए। 2012 में गोविंद सिंह बिष्ट को चुनाव से ऐन पहले शिक्षा मंत्री का दायित्व गोविंद सिंह बिष्ट को दिया गया तो वे चुनाव हार गए।

National News inextlive from India News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.