वंदे भारत एक्सप्रेस प्रधानमंत्री दिखाएंगे हरी झंडी रेल मंत्री लेकर आएंगे ट्रेन18

2019-02-13T09:27:02+05:30

15 फरवरी से वंदे भारत एक्सप्रेस में सफर को हो जाइए तैयार

-दिल्ली से इलाहाबाद तक 1800 और 2800 रुपए होगा किराया

prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: पंद्रह फरवरी से ट्रेन-18 पटरी पर आ जाएगी. यह ट्रेन नई दिल्ली से वाराणसी के बीच दौड़ेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे और रेल मंत्री पीयूष गोयल ट्रेन-18 यानी वंदे भारत एक्सप्रेस लेकर नई दिल्ली से कानपुर और इलाहाबाद होते हुए वाराणसी पहुंचेंगे. इसका नोटिफिकेशन भी जारी हो चुका है और यह सोमवार व गुरुवार को छोड़ हफ्ते में पांच दिन चलेगी.

हो गया फाइनल
ट्रेन-18 की रवानगी को लेकर अभी तक केवल कयासबाजी का दौर चल रहा था, लेकिन अब ये फाइनल हो गया है. करीब आधा दर्जन ट्रायल के बाद वंदे भारत एक्सप्रेस पंद्रह फरवरी से ट्रैक पर दौड़ेगी. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्वीट कर ऑफिशियली ट्रेन-18 के रवानगी की घोषणा कर दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ट्रेन-18 को हरी झंडी दिखाने के बाद इसी ट्रेन से वाराणसी ले जाने की योजना थी, लेकिन प्रधानमंत्री की व्यस्तता के कारण इस प्लान को बदल दिया गया है.

ऐसा है किराया

1850 रुपए में एसी चेयरकार में दिल्ली से वाराणसी का होगा सफर.

3520 रुपए है नई दिल्ली से वाराणसी तक एग्जीक्यूटिव क्लास का किराया.

किराए में कैटरिंग चार्ज,- चाय, नाश्ता और भोजन का खर्च जुड़ा है

1150 रुपए एसी चेयरकार नई दिल्ली से कानपुर तक का है किराया

2245 रुपए एक्जीक्यूटिव क्लास में किराए का है रेट

1480 रुपए एसी चेयरकार से नई दिल्ली से इलाहाबाद तक का है किराया

2935 रुपए एक्जीक्यूटिव क्लास का है रेट

630 रुपए में चेयर कार से कानपुर से इलाहाबाद तक का होगा टिकट

1254 रुपए होगा एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया

ऐसी है टाइमिंग

सोमवार और गुरुवार को छोड़कर हफ्ते के पांच दिन चलेगी.

16 फरवरी से ट्रेन सुबह 6 बजे नई दिल्ली से चलकर 12.23 पर इलाहाबाद पहुंचेगी और 12.25 पर वाराणसी के लिए प्रस्थान करेगी.

वापसी में ट्रेन 3 बजे वाराणसी से चलकर 4.35 पर इलाहाबाद पहुंचेगी. 4.37 पर इलाहाबाद से रवाना होकर रात 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी.

15 फरवरी से ट्रेन-18 चलाने की तैयारी तेज हो गई है. इसकी जानकारी रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद ट्वीट कर दी है. ट्रेन का नोटिफिकेशन जारी हो चुका है.

-अमित मालवीय, पीआरओ एनसीआर


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.