4 लाख 62 हजार में बिका 0001 कार नंबर जानें क्या था खास

2019-01-02T04:06:01+05:30

देहरादून परिवहन विभाग की ओर से लगाई गई वीवीआईपी कार नंबरों की बोली को सार्वजनिक किया गया

- अब तक का सबसे महंगा बिकने वाला नंबर

- बोली लगाने से पहले 10 हजार की सिक्योरिटी करनी थी जमा

- इससे पहले हरिद्वार में बिक चुका 4 लाख 46 हजार में नंबर

dehradun@inext.co.in
DEHRADUN:  देहरादून, परिवहन विभाग की ओर से लगाई गई वीवीआईपी कार नंबरों की बोली को सार्वजनिक किया गया. इसमें यूके 07 डीके 0001 कार नंबर सबसे महंगा बिका. आरटीओ की ओर से अब तक की जारी की गई सिरीज में यह सबसे महंगा बिकने वाला नंबर है. यह नंबर आदेश गिरी नाम के व्यक्ति ने खरीदा है.

4 लाख 62 हजार में बिका नंबर|
आरटीओ की ओर से कुल 20 नंबरों की सिरीज जारी की गई थी. इसमें से 12 नंबर टॉप पर रहे, जहां यूके 07 डीके 0001 कार नंबर को 4 लाख 62 हजार में खरीदा गया. वहीं यूके 07डीके 9000 खुशनद अहमद नाम के व्यक्ति ने 19000 हजार रुपये में खरीदा गया.

10 हजार की सिक्योरिटी जमा
विभाग की ओर से वीवीआईपी नंबर अप्लाई करने से पहले 10 हजार सिक्योरिटी के रूप में जमा करवाई गई थी, नंबर न मिलने पर सिक्योरिटी राशि वापस दी जाती है. इसके लिए परिवहन विभाग की साइट पर ऑनलाइन अप्लाई करना होता है.

अब तक का सबसे महंगा नंबर
प्रदेश के सभी आरटीओ की ओर से जारी किये गये वीवीआईपी नंबरों की सिरीज में सबसे महंगा नंबर यूके 07 डीके 0001 कार नंबर की बोली लगी है. इससे पहले हरिद्वार में 4 लाख 46 हजार में 0001 नंबर की बोली लगाई गई थी.

हर माह की जाती सिरीज जारी
आरटीओ से मिली जानकारी के मुताबिक हर माह वीवीआईपी नंबरों की सिरीज जारी की जाती है. अब तक विभाग करीब एक दर्जन सिरीज जारी कर चुका है.

अब तक प्रदेश में सबसे महंगा नंबर 4 लाख 62 हजार में 0001 की बोली लगी है. इससे पहले हरिद्वार में 4 लाख 46 हजार की बोली लगी थी.

अरविन्द पांडे, एआरटीओ (प्रवर्तन)


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.