अयाेध्या में ये है आखिरी प्रयास धर्मसभा के बाद अब सीधे होगा मंदिर निर्माण विहिप

2018-11-24T12:05:27+05:30

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर आज शिवसेना के हजारों कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचेंगे। वहीं रविवार को विहिप की धर्मसभा का आयोजन है। इस संबंध में विहिप का कहना है कि धर्मसभा के बाद सीधे राम मंदिर का निर्माण होगा।

लखनऊ (आईएएनएस)। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) समेत तमाम संगठनों द्वारा 25 नवंबर रविवार को अयोध्या में लाखों लोगों का जमावड़ा होना है जहां वे राम मंदिर निर्माण की हुंकार भरेंगे। विहिप का कहना है कि रविवार को अयोध्या में निर्धारित 'धर्मसभा' राम मंदिर के निर्माण के लिए बाधाओं को दूर करने का 'आखिरी प्रयास' है। इसके बाद सीधे मंदिर निर्माण की तैयारी हाेगी।
मंदिर के निर्माण की शुरुआत होगी
विहिप ने मंदिर के शुरुआती निर्माण के लिए रणनीति पर चर्चा करने के लिए बैठक भी बुलाई है। इस संबंध में वीएचपी क्षेत्रीय संगठनात्मक सचिव भोलेंद का कहना है कि अब अगला पड़ाव मंदिर के निर्माण की शुरुआत होगी। अब मंदिर निर्माण के लिए सभा, प्रदर्शन और धरना आदि नहीं किया जाएगा। इसके अलावा न विरोधियों को समझाया जाएगा..सीधे मंदिर निर्माण होगा।
हिंदुओं के समर्थक नहीं बन सकते
इसके साथ ही विहिप नेता ने कहा कि सभी प्रयास असफल होंगे तो युद्ध एकमात्र रास्ता बचेगा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर भी निशाना साधते हुए कहा कि ये केवल राजनीति कर रहे हैं। राहुल गांधी सिर्फ जनेऊ पहनकर, कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर और कुछ देवताओं के नामों का जाप कर हिंदुओं के समर्थक नहीं बन सकते।
राम मंदिर के निर्माण के लिए दबाव
वीएचपी नेता सचिव भोलेंद ने किहा कि 'धर्मसभा' ​​में भाग लेने के लिए हजारों वीएचपी कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचेंगे। खास बात तो यह है कि आरएसएस और उसके अन्य सहयोगियों ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए भी समर्थन दिया है। शिवसेना भी इसमें शामिल हो रही है। जिससे केंद्र में भारतीय जनता पार्टी सरकार पर मंदिर के निर्माण के लिए दबाव डाला जा सके।

अयाेध्या : छावनी में तब्दील हुई रामनगरी, भक्त जुटे, अफसर डटे

अयोध्या : रामनगरी में जुटने लगे शिवसेना समर्थक, जानें क्या है उद्धव ठाकरे का प्लान


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.