इधर नाले में बह रहा पानी उधर पेयजल संकट से जूझ रहे लोग

2019-04-23T06:00:27+05:30

- सिकंदरा वाटर व‌र्क्स से छोड़ा गया था पानी

- बोदला पर फट गई मेन राइजिंग 1200 एमएम की पाइपलाइन

- प्रेशर नहीं झेल पाई पाइपलाइन

- बोदला चौराहे पर पाइपलाइन फटने से नाले में जा रहा पानी

आगरा। बीते शनिवार को टेस्टिंग के दौरान लीकेज हुई 1200 एमएम की मेन राइजिंग पाइपलाइन की न तो मरम्मत की जा रही है, न ही उसको बदला जा रहा है। रविवार को मेयर नवीन जैन ने निरीक्षण कर जलकल के अफसरों को समस्या के स्थाई समाधान के निर्देश भी दिए थे। बावजूद इसके सोमवार को पूरे दिन काम ठप रहा और लीकेज पाइपलाइन से पानी नाले में गिरता रहा।

एक सप्ताह तक रह सकता है पेयजल संकट

मेन राइजिंग 1200 एमएम की पाइपलाइन को बदलने में तकरीबन एक सप्ताह का समय लग सकता है। हालांकि मेयर नवीन जैन ने जलकल के अफसरों को चार दिन में इस 25 वर्ष पुरानी पाइप लाइन को बदलने के निर्देश दिए हैं, लेकिन जिस प्रकार की कार्यप्रणाली जलकल के अफसरों की है, उससे नहीं लगता कि चार दिन में यह लाइन बदली जा सकेगी। इससे पहले गुरु के ताल स्थित ओवरब्रिज के नीचे क्षतिग्रस्त हुई 1400 एमएम की पाइपलाइन को दुरुस्त करने में 35 दिन से ज्यादा का समय लग गया था।

बढ़ेंगी ये परेशानियां

-केदार नगर, शाहगंज, रामनगर, पृथ्वीनाथ फाटक, भोगीपुरा, बोदला, वाल्मीकि बस्ती, समेत अन्य क्षेत्रों में पेयजल संकट बढ़ेगा।

- कई इलाकों में पानी नहीं पहुंच पा रहा है। इसका प्रमुख कारण प्रेशर का कम होना है।

- पेयजल निस्तारण के लिए जलकल के अफसरों के पास मुकम्मल व्यवस्था नहीं है।

76 लाख से होनी थी लीकेज की मरम्मत

शहर में जलकल द्वारा 9 स्थानों पर 76 लाख की लागत से लीकेज पाइप लाइन की मरम्मत कराई जानी थी। इसके लिए ई-टेंडर प्रक्रिया अपनाई जानी थी, लेकिन अभी तक काम शुरू नहीं किया जा सका है। केवल गुरु का ताल स्थित आरओबी के नीचे 39.11 लाख की लागत से लीकेज का काम दुरुस्त किया जा चुका है। इसके अलावा किसी लीकेज पर कोई काम शुरू नहीं हो सका है। जिन लीकेज लाइनों को दुरुस्त किया जाना था, उनमें आरओबी फाटक के पास 4.65 लाख, सिकंदरा स्मारक के पीछे की पाइप लाइन पर 4.70 लाख, भावना एस्टेट के पीछे, गौरीकुंज बाईपुर रोड की ओर गंगोत्री बिहार, बोदला रोड पर 4.46 लाख, हलवाई की बगीची आदि स्थानों पर टूटी पाइप लाइन की मरम्मत कराई जानी थी। बता दें कि हर वर्ष जलकल विभाग पंपिंग सेट के मेंटीनेंस पर 1.50 करोड़ और अन्य लाइनों के मेंटीनेंस पर 10 लाख खर्च करता है।

क्या बोले जिम्मेदार

इस बारे में जलकल के जीएम आरएस यादव ने बताया कि तकरीबन 20 मीटर पाइप लाइन को बदला जाएगा। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर सिकंदरा वाटर व‌र्क्स से पानी का प्रेशर बढ़ाया गया था, उसी दौरान बोदला पर 1200 एमएम की पाइपलाइन लीकेज हो गई। पाइपलाइन का कुछ हिस्सा पूरी तरह से डैमेज हो चुका है। नाले से लाइन को शिफ्ट किया जाएगा। इससे सड़क भी चौड़ी हो सकेगी। इसमें तकरीबन एक सप्ताह का समय लग सकता है। तब तक पेयजल आपूर्ति टैंकरों से की जाएगी।

inextlive from Agra News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.