जब खाने के शौकीन अटलजी को गुलाब जामुन से दूर रखने के लिए माधुरी दीक्षित से मिलवाया गया

2018-08-17T10:29:30+05:30

दुनिया को अलविदा कह गए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी खाने के काफी शौकीन थे। खासतौर से मिठाई उनको इतनी पसंद थी कि उससे दूर नहीं रह पाते थे। बताते हैं गुलाब जामुन से उन्हें दूर रखने के लिए बॉलीवुड एक्ट्रेस से मिलवाया गया था। पढ़ें पूरा किस्सा

नई दिल्ली (पीटीआई)। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब इस दुनिया में नहीं रहे। गुरुवार शाम को उन्होंने एम्स में अंतिम सांस ली। अटल जी भारत के 10वें प्रधानमंत्री थे। एक राजनेता, कवि और पत्रकार रहे वाजपेयी जी काफी जिंदादिल इंसान थे। संसद हो या बाहर वह अपने हास्य और व्यंग्य से लोगों को ठहाके लगाने पर मजबूर कर देते थे। अटल जी से जुड़ा ऐसा ही एक किस्सा बता रहे हैं सीनियर जर्नलिस्ट राशिद किदवई। इनकी मानें तो एक बार अटल जी को गुलाब जामुन से दूर रखने के लिए माधुरी दीक्षित से मिलवाया गया। दरअसल राशिद उस वक्त प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी के साथ एक अफिशल लंच पर गए थे। तब अटल जी के खानपान का खास ख्याल रखा जाता था ताकि उनकी तबियत न बिगड़े। इसके बावजूद पूर्व प्रधानमंत्री फूड काउंटर के पास जाकर खड़े हो गए। खाने के प्रति उनका मोह उन्हें ज्यादा देर दूर नहीं रख पाया।
माधुरी से मिले, रसगुल्ला भूल गए
किदवई बताते हैं कि, अटल जी को फूड काउंटर के पास खड़ा देख उनके सहयोगी परेशान हो गए। अब प्रधानमंत्री को वह सीधे खाने के लिए मना कर नहीं सकते थे। ऐसे में उन्होंने लंच में मौजूद बॉलीवुड एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित की मुलाकात अटल जी से करवा दी। आपको बता दें वाजपेयी जी को फिल्मों का काफी शौक था और माधुरी दीक्षित को देख वह फिल्मी दुनिया की बातों में डूब गए। उधर स्टॉफ ने फूड काउंटर से मिठाई की प्लेटें हटा दीं। अटल जी किसी एक व्यंजन में नहीं टिकते थे उन्हें तरह-तरह की डिशेज पसंद थीं। पूर्व प्रधानमंत्री के साथ काम करने वाले नौकरशाहों की मानें तो, अटल जी को कोलकाता का पुचका, हैदराबाद की बिरयानी, लखनऊ का गलोटी कबाब काफी पसंद था। यही नहीं चाट मसाला के साथ पकौड़ा और मसाला चाय तो उनकी फेवरेट थी।
खाने की ये चीजें थी पहली पसंद
एक सीनियर महिला जर्नलिस्ट बताती हैं कि अटल जी ने कई मौकों पर उनके और साथी पत्रकारों के लिए खुद अपने हाथ से खाना बनाया था। यह या तो नॉन-वेज होता था या फिर कोई डिजर्ट। यही नहीं वाजपेयी जी की एक और आदत थी वह कैबिनेट मीटिंग के दौरान मूंगफली खाया करते थे। जैसे ही उनकी प्लेट खाली होती थी कर्मचारी उसे फिर भर देते थे। अटल जी अक्सर अपने करीबियों से कुछ न कुछ खाने को मंगाया करते थे। लालजी टंडन जब-जब लखनऊ से दिल्ली जाते थे तो पीएम के लिए चौक एरिया से कबाब ले जाना नहीं भूलते थे। यही नहीं केंद्रीय मंत्री विजय गोयल पुरानी दिल्ली से अटल जी के लिए आलू चाट लाते थे। उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू तो आंध्र प्रदेश से उनके लिए झींगा मछली जरूर लाया करते थे। वाजपेयी जी के साथ टूर पर जाने वाले पत्रकार बताते हैं कि वह अभी तक के 'मोस्ट रिलेक्स्ड' प्रधानमंत्री माने जाते हैं। वह ट्रिप पर काम के अलावा और भी कई विषयों पर चर्चा करते थे। वह खाना खाते थे और खूब खुश रहते थे। यही नहीं बीमार रहने के बावजूद उन्होंने काजू और समोसा खाना बंद नहीं किया था।
कानपुर में एक ही क्‍लास में पढ़ा करते थे अटल बिहारी वाजपेयी व उनके पिता
कारगिल युद्ध के समय जब अटलजी ने लगाया नवाज शरीफ को फोन दिलीप कुमार से कराई बात


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.