राक्षस यक्ष और असुर कौन हैं? जानें देवदत्त पट्टनायक से

2018-11-27T11:01:36+05:30

राक्षस हमेशा जंगल में पाए जाते हैं। उन्हें हम बारबेरियंस यानी जंगली कहते हैं। रामायण में कहते हैं कि रावण और कुबेर भाई थे। कुबेर यक्षों का राजा था और रावण राक्षसों का और दोनों विश्रवा के बच्चे थे।

राक्षस, यक्ष और असुर अलग-अलग हैं। असुर वे हैं, जो देवताओं के साथ लड़ाई करते हैं। ऐसा माना जाता है कि देवता स्वर्ग में और असुर पाताल में रहते हैं। राक्षस इंसान के साथ लड़ाई करते हैं जैसे राम और रावण की लड़ाई। राम मनुष्यों के राजा थे और रावण राक्षसों का। यह लड़ाई भूलोक में होती है।

राक्षस हमेशा जंगल में पाए जाते हैं। उन्हें हम बारबेरियंस, यानी जंगली कहते हैं। रामायण में कहते हैं कि रावण और कुबेर भाई थे। कुबेर यक्षों का राजा था और रावण राक्षसों का और दोनों विश्रवा के बच्चे थे। कश्यप की तरह विश्रवा भी ब्रह्मा के पुत्र थे। उनकी दो पत्‍ि‌नयां थीं। एक पत्‍‌नी से राक्षसों का जन्म हुआ और दूसरी पत्‍‌नी से यक्षों का।

जैसे देवासुर हमेशा लड़ाई करते रहते हैं, नाग और गरुड़ हमेशा लड़ाई करते हैं, उसी तरह राक्षस और यक्ष भी लड़ाई करते हैं। यक्षों ने जितना धन एकत्रित किया था, लंका में जमा करके रखा था, लेकिन राक्षसों ने यह धन छीन लिया और दक्षिण से उत्तर भेज दिया।

अलंका या अलाका उत्तर में है, कैलाश पर्वत यक्षों का घर है जबकि लंका राक्षसों का। इसका कोई ज्योतिषीय महत्व हो सकता है या पौराणिक भूगोल से कुछ संबंध, पर यह दर्शाता है कि हर बल के विपरीत बल होता है, जैसे-देव-असुर, गरुड़-नाग, राक्षस-यक्ष, यह एक थीम बार-बार पुराणों में आती है। यह तनाव इसलिए है, ताकि संतुलन आए। बड़ी बात यह है कि अगर रस्साकशी हो तो फिर हिंसा होगी। अगर मंथन है, तो तालमेल होगा, उत्पादकता बढ़ेगी।

देवदत्त पट्टनायक

काल भैरव अष्टमी 2018: दुष्टों को दंड देने के लिए शिव ने लिया भैरव अवतार, जानें व्रत और पूजा विधि

पूजा करते समय आप भी तो नहीं करते हैं ये 10 गलतियां, ध्यान रखें ये बातें


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.