पटना में 11वीं के छात्र ने लगाया आईपीएल में सट्टा और हुआ किडनैप

2019-05-12T12:40:22+05:30

पटना में एक छात्र ने आईपीएल में सट्टा लगाया और उसके बाद वो किडनैप हो गया

PATNA : पटना में 11वीं के छात्र का अपहरण हो गया है। तीन दिन में अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस ने एक आरोपी गोलू को गिरफ्तार किया है। पूछताछ में ये सामने आया है कि छात्र आईपीएल मैचों पर सट्टा लगाता था। इस घटना ने पुलिस की पोल खोल कर रख दी है। शहर में लगातार सटोरी आईपीएल पर सट्टा लगा रहे है लेकिन पुलिस उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। इससे सटोरियों के हौसले बुलंद हो गए हैं और युवा ज्यादा रुपए कमाने के चक्कर में फंसकर अपना जीवन बर्बाद कर रहे हैं। इसी का नतीजा है कि 11वीं का छात्र लाखों रुपए का कर्ज ले लिया। उसकी मां का कहना है कि मेरा बेटा सट्टा नहीं लगा सकता। अगर लगा भी रहा था तो पुलिस पहले उन सटोरियों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की। पुलिस अगर कार्रवाई की होती तो आज मेरा बेटा मेरे आंखों के सामने होता और उसका अपहरण नहीं होता।

एप से लगा रहे सट्टा
आईपीएल अब अंतिम चरण में है। राजधानी में क्रिकेट का सट्टा का जोरों से चल रहा है। सट्टा लगाने का खेल अब पूरी तरह से हाईटेक हो गया है। इसमें माफिया के द्वारा इस बार सट्टा मोबाइल एप के जरिए लगाया जा रहा है। एप के माध्यम से सट्टा लगाने वाले युवाओं को भाव मिलने के बाद बुकी के पास सौदा तय हो जाता है। एक दिन में करीब 50 लाख से अधिक का सट्टा लगाए जाने का अनुमान है।

एप से पता करते हैं भाव
स्मार्ट फोन में युवाओं को मोबाइल एप इंस्टॉल कराया जाता है। कुछ मोबाइल एप का प्रयोग करके क्रिकेट सट्टा का भाव प्राप्त किया जाता है।

सट्टा लगाने वाले युवा इसी एप के माध्यम से भाव प्राप्त करके राजधानी में सट्टा खिलने वाले बुकी को सौदा तय कर देते हैं। रुपया डबल करने के चक्कर में आईपीएल मैच के दौरान सट्टा लगाने का खेल पूरे जोरों पर चल रहा है। शहर के पीरबहोर, दीघा, नेहरू नगर सहित अन्य क्षेत्रों में जमकर सट्टा चल रहा है। लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लग रही है।

टॉस, बॉल और रन पर दांव
दैनिक जागरण आई नेक्स्ट की पड़ताल में ये बात सामने आई है कि र्आपीएल मैच में हर बॉल पर दांव लगाया जा रहा है। कौन सी टीम टॉस जितेगी। कौन टीम कितना रन बनाएगी। कौन खिलाड़ी कितना रन बनाएगा। कौन सा प्लेयर कितना विकेट लेगा। कितने छक्के और चौके लगेंगे। कौन कितना विकेट लेगा। एक ओवर में कितने रन बनेंगे। पॉवर प्ले ओवरों में कितने रन बनेंगे। कौन सी टीम जीतेगी। इसके अलावा भी कई तरह से सट्टा लगाया जा रहा है। अनुमान सही होने पर एक का नौ के भाव से रुपए दिए जाते हैं।

नौ गुना राशि का भुगतान
सट्टा लॉटरी की तर्ज पर ही खेला जाता है। लॉटरी में 0 से 9 नंबर पर सट्टा लगाया जाता था। इसी तरह सट्टा में भी 0 से 9 नंबर पर दांव खेला जाता है। इसमें अंतर इतना है कि लॉटरी में प्लेयर को प्रिंट पर्ची मिलती है और इसमें प्लेयर को हाथ से लिखी पर्ची देने के साथ ही नेट से ड्रॉ निकाला जाता है। लॉटरी में दो रुपए, 11 रुपए व 51 रुपए आदि की तरह ही सट्टा में 12, 55 और 110 रुपये में किसी एक नंबर पर सट्टा लगाया जाता है।

युवा पीढ़ी ले रही रुचि
इस खेल मे नए लड़के एवं स्टूडेंस खासी रुचि ले रहे है। दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने जब पड़ताल की तो पता चला कि इस खेल कि जुबान भी कुछ अजीबो गरीब है इसमे सट्टा लिखाने वाले शख्स को कुछ कोडवर्ड लाइन भी कहा जाता है जो पंटर के जरिए बुकी तक उतारा जाता है। क्रिकेट पर रुपए लगाने से पहले एजेंट को एडवांस सट्टे के भाव को डि?बे की आवाज बोला जाता है। आईपीएल में 20 ओवर को लंबी पारी, 10 ओवर को सेशन एवं 6 ओवर को छोटी पारी बोली जाती है। मैच कि पहली गेंद से लेकर टीम के जीत भाव उतरते चढ़ते रहते हैं।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.